ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर डीन जोंस का निधन 59 साल की उम्र में हो गया। मुंबई में हार्ट अटैक की वजह से उनका निधन हुआ। डीन जोंस कई टीमों के कोच भी रह चुके थे साथ ही वो कमेंटेटर भी थे। डीन जोंस ने ऑस्ट्रेलिया के लिए टेस्ट व वनडे क्रिकेट खेला था। उनके नाम पर टेस्ट क्रिकेट में कई बेहतरीन रिकॉर्ड दर्ज हैं तो वहीं वो वनडे क्रिकेट में अपनी बल्लेबाजी व शानदार फील्डिंग के लिए जाने जाते थे। 

डीन जोंस को 80 के दशक के आखिरी में तो वहीं 90 की दशक के शुरुआत में उन्हें दुनिया के बेस्ट वनडे बल्लेबाजों में शुमार किया जाता था। वो स्पिनर व तेज गेंदबाज दोनोें के खिलाफ ही बेहतरीन बल्लेबाज थे। विकेटों के बीच रनिंग के मामले में उन्हें गजब का माना जाता था। साल 2019 में उन्हें ऑस्ट्रेलिया क्रिकट हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया था। 

डीन जोंस ने ऑस्ट्रेलिया 16 मार्च 1984 को पोर्ट ऑफ स्पेन में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। उन्होंने इस टीम के लिए अपने करियर में कुल 52 टेस्ट खेले जिसमें उन्होंने 46.55 की औसत से 3631 रन बनाए। इसमें 11 शतक भी शामिल है तो वहीं टेस्ट में उनका बेस्ट स्कोर 216 रन था। वनडे की बात करें तो उन्होंने अपना डेब्यू 30 जनवरी 1984 को पाकिस्तान के खिलाफ एडिलेड में किया था। 

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के लिए कुल 164 वनडे मैच खेले जिसमें 44.61 की औसत से 6.68 रन बनाए थे। उन्होंने वनडे में कुल 7 शतक व 46 अर्धशतक लगाए थे। फर्स्ट क्लास मैचों की बात करें तो उन्होंने 51.85 की औसत से 19188 रन बनाए थे और शतकों की संख्या 55 थी। 

डीन जोंस कमेंटेटर के तौर पर अपनी बेबाकी के लिए जाने जाते थे और उन्होंने एक बार पूर्व साउथ अफ्रीकी क्रिकेटर हाशिल अमला को आतंकवादी कह दिया था। इसके बाद वो काफी सुर्खियों में आ गए थे। डीन जोंस अफगानिस्तान क्रिकेट टीम के अंतरिम कोच थे तो वहीं उन्होंने पाकिस्तान सुपर लीग टीम इस्लामाबाद यूनाइटेड के कोच पद की जिम्मेदारी संभाली थी। साल 2016 में उनके कोच रहते ये टीम चैंपियन बनी थी। 2018 में वो एक बार फिर से इसी टीम के कोच बने और ये टीम फिर से चैंपियन बनी तो वहीं साल 2019 में वो मिकी आर्थर की जगह कराची किंग्स के हेड कोच बने थे। 

डीन जोंस के निधन के बाद टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने ट्वीट करके अपनी श्रद्धांजलि उन्हें दी।