नई दिल्ली । कोरोना महामारी के कारण देश में स्वास्थ सेवाओं पर विपरीत प्रभाव पड़ा है जिससे पीड़ितों के इलाज में कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन से अस्पतालों में रक्त की कमी हो गयी है।ऐसे में  भारतीय फुटबॉल टीम के स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुआ ने स्वयं रक्तदान करने का फैसला किया है। ‘यंग मिजो एसोसिएशन’ (वाईएमए) से जुड़े अस्पतालों को सहायता की जरूरत है। इस बात की जानकारी मिलने पर लालपेखलुआ ने अपने साथियों के साथ स्वयं रक्तदान के लिए जाने का फैसला किया।’ उन्होंने कहा,‘आप ऐसी परिस्थितियों में शांत नहीं बैठ सकते हैं।’
इसके बाद वह रक्तदान के लिए मिजोरम के डर्टलैंग के साईनोड अस्पताल पहुंचे। उन्होंने कहा, ‘हमने योजना बनाई। हम वाईएमए के अस्पताल में पहुंचे। हम 33 लोग गये थे जिनमें से 27 को रक्तदान करने के लिए फिट माना गया।’ इस फुटबॉलर ने कहा, ‘मैंने बहुत छोटी सी भूमिका अदा की लेकिन यह काफी संतोषजनक है। मैं भगवान का आभार अदा करता हूं जिसने मुझे ऐसा करने की हिम्मत दी।’