इस्लामाबाद। आर्थिक रूप से खस्तहाल पाकिस्तान अपने हालात को सुधारने के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के साथ आने वाले आगामी हफ्तों में बातचीत शुरू करने वाली है। मीडिया की खबरों ने इसकी जानकारी दी है। रिपोर्ट के अनुसार, पांच दिनों की यह बैठक 4 अक्टूबर से शुरू होगी और इस वर्चुअल वार्ता में आईएमएफ की टीम दोहा और कतर से शामिल होगी। अगर पाकिस्तान की आईएमएफ के साथ बैठक सफल हुई तो पाक को तत्काल एक अरब डॉलर का और कर्ज देगा।
आपको बता दें कि पाकिस्तान और आईएमएफ के बीच जुलाई 2019 में 6 अरब डॉलर के लोन के लिए करार किया था। जून से अगस्त तक दोनों पक्षों के बीच कोई गंभीर चर्चा नहीं हुई। सूत्रों ने कहा कि वित्त मंत्री शौकत तारिन 15 अक्टूबर को वाशिंगटन में शीर्ष आईएमएफ प्रबंधन के साथ आमने-सामने की बैठक करेंगे। पाकिस्तान से जुड़ी एक खबर सामने आ रही है जिसके तहत यूरोपीय संघ ने पाकिस्तानी चावल की एक खेप को खारिज कर दिया है।एक रिपोर्ट के मुताबिक, 30 सितंबर से पाकिस्तानी अकाउंट्स ने भारतीय खाद्य उत्पादों का बहिष्कार कर भारत को बदनाम करना शुरू कर दिया है। पाकिस्तान के इस नापाक चाल के तहत भारतीयों व्यवसाय का बहिष्कार करना आर्थिक पहलू के साथ जुड़ा हुआ है।