नई दिल्ली । नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुला और उमर अब्दुल्ला हाल ही में जम्मू-कश्मीर में हुए संवैधानिक परिवर्तन को लेकर खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। उन्होने इसे खिलाफ राजनीतिक और कानूनी लड़ाई लड़ने की बात कही है। अब्दुला ने कहा वे शांतिपूर्ण तरीक से लड़ाई लड़ेंगे। दोनों नेताओं ने अपने संभवत: पहले संयुक्त इंटरव्यू में कहा कि वे केंद्र सरकार द्वारा किए जा रहे निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन और अधिवासी कानूनों के जरिए घाटी की जनसांख्यिकी बदलने के प्रयासों को खारिज कर दिया।श्रीनगर में अपने सुरक्षित निवास में बैठे पिता-पुत्र की जोड़ी ने  कश्मीरी सड़क का मूड भारत का हिस्सा नहीं था और वे भारतीय नहीं थे। उन्होंने देश के बाकी हिस्सों में बढ़ते हिंदू-मुस्लिम घृणा के जम्मू-कश्मीर में प्रभाव के बारे में चेतावनी भी दी। उन्होंने केंद्रशासित वर्तमान प्रशासन को लेकर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि स्थानीय मुसलमानों के पास बहुत कम जगह है। साथ ही कहा कि केंद्र के साथ बातचीत के लिए कोई दरवाजा नहीं खुला। कश्मीरी सड़कों की मन:स्थिति के बारे में जब उनसे पूछा गया तो फारूख अब्दुल्ला ने कहा यदि आप ईमानदार सच्चाई जानना चाहते हैं, तो वे भारत का हिस्सा नहीं हैं। यह ईश्वर का सत्य है। आप एक सामान्य व्यक्ति से पूछते हैं, वह पाकिस्तानी नहीं बनना चाहता। वह पाकिस्तानी नहीं है, लेकिन उन्होंने केंद्र ने जो किया उसके बाद वह आज भारतीय नहीं हैं। पिछले साल संसद ने प्रभावी रूप से अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया, जिसने जम्मू-कश्मीर पर विशेष दर्जा दिया। अनुच्छेद 35 ए को हटा दिया, जिसने सरकारी नौकरियों और संपत्ति के स्वामित्व के लिए स्थायी निवासियों को परिभाषित करने के लिए राज्य विधायिका को सशक्त बनाया। राज्य को जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की दो अलग-अलग प्रशासनिक इकाइयों में पुनर्गठित किया और उन दोनों को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया। इस साल 15 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के बाद जम्मू-कश्मीर में नई विधानसभा के लिए चुनाव होंगे। केंद्र ने मनोज सिन्हा को नए लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा के रूप में नियुक्त किया है। इस बीच,नए केंद्र शासित प्रदेश की प्रमुख पार्टियों ने एक संयुक्त बयान जारी किया, जिसमें उन्होंने पिछले साल की घोषणा को आगे बढ़ाते हुए कहा कि वे संवैधानिक बदलावों के खिलाफ मिलकर लड़ेंगे। धारा 370 को अलगाववाद के लिए प्रेरित करने के आरोप को खारिज करते हुए फारूख अब्दुल्ला ने कहा पिछले साल 5 अगस्त से पहले अब अधिक अलगाववाद है। यह पाकिस्तानियों का नहीं है जो आज मर रहे हैं, यह कश्मीरियों का है। उन्हें उग्रवादियों किसने बनाया है? फारूख अब्दुल्ला नहीं। मैं जेल में था। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार बनाया। बाकी राष्ट्रों में उन्होंने हिंदुओं और मुसलमानों के बीच जो नफरत पैदा की है क्या आपको लगता है कि इसका यहां कोई असर नहीं होगा? असर होगा। संवैधानिक परिवर्तनों के खिलाफ उनकी लड़ाई के कानूनी आयाम पर विस्तार से चर्चा करते हुए उमर अब्दुल्ला ने कहा कि उच्चतम न्यायालय में उनकी याचिका एक मजबूत बिंदु पर टिकी हुई है। एक राज्यपाल एक विधानसभा की शक्तियों को नहीं मान सकता है, और एक विधानसभा एक निर्वाचित विधानसभा की शक्तियों को ग्रहण नहीं कर सकती है। केंद्र सरकार ने 5 अगस्त, 2019 को जो किया उसमें यह एक मूलभूत दोष है। आप इस मामले की योग्यता को राजनीतिक रूप से दूर कर सकते हैं, लेकिन कानूनी रूप से नहीं।