बेंगलुरु/मुंबई| फेसबुक के जियो प्लेटफॉर्म्स में 5.7 अरब डॉलर के निवेश से वॉट्सऐप पर मनी ट्रांजैक्शन और बिजनेस को बढ़ावा देने का रास्ता तैयार हो गया है। वहीं, इस डील से किराना दुकानों को अपने साथ जोड़कर एक हाइपरलोकल ई-कॉमर्स मॉडल (Hyperlocal E-commerce) तैयार करने में भी मदद मिलेगी, जिस पर देश की सबसे मूल्यवान कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने दांव लगाया है।
 फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) ने एक वीडियो में इस बात का संकेत दिया कि तालमेल किस तरह का हो सकता है। उन्होंने कहा, 'हमने ऐसे अहम प्रोजेक्ट्स पर काम करने का संकल्प भी लिया है, जिनसे भारत में कॉमर्स के तमाम मौके सामने आएंगे।' जुकरबर्ग ने जिन 'अवसरों' का जिक्र किया, वह कोविड 19 महामारी का असर खत्म होने के बाद के दिनों में जरूरी चीजों की रिटेलिंग, खासतौर से ग्रॉसरी बिजनेस के डिजिटाइजेशन में मददगार हो सकती है। इसमें फोकस छोटे और मझोले उद्यमों के साथ रिटेलिंग सेगमेंट पर होगा। दोनों ही ग्रुप पिछले दो वर्षों से इन क्षेत्रों पर नजर बनाए हुए हैं।
 
जून तक लॉन्‍च हो सकता है वॉट्सऐप पे
जियो पिछले दो वर्षों से किराना स्टोर्स को अपने साथ जोड़ रही है। वहीं फेसबुक, वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम ने छोटे कारोबारियों को अपने साथ जोड़ा है। हालांकि यह डील इन सभी को एक जगह जोड़ देगी जिससे इस सेगमेंट का डिजिटाइजेशन तेजी से होगा। सरकारी सूत्रों ने बताया कि रेगुलेटरी वजहों और एक अदालती मामले के कारण वॉट्सऐप पे (Whatsapp Pay) का मामला अटक गया था और बाद में इसे कुछ चरणों में ही लॉन्च किया गया था, लेकिन अब इसे अगले महीने या जून तक पूरी तरह लॉन्च किया जा सकता है। अधिकारियों ने बताया कि वॉट्सऐप तब जियो के पेमेंट्स बैंक का सहारा स्पॉन्सर बैंक के रूप में ले सकती है जिससे इसके यूपीआई आधारित पेमेंट सिस्टम को मजबूती मिलेगी।
 
फाइनेंशियल सर्विसेज देना भी लक्ष्‍य
वहीं, जियो अपने रिटेलरों को वॉट्सऐप फॉर बिजनेस का ऑफर दे सकती है जिसमें एंड टु एंड सर्विस दी जाएगी। अभी इसे थर्ड पार्टी कंपनियों का सहारा लेना पड़ता है। आगे चलकर इससे फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी सेगमेंट में जियो को मदद मिलेगी, खासतौर से कर्ज देने और इंश्योरेंस सेगमेंट में। सूत्रों ने बताया कि फाइनेंशियल सर्विसेज देने का लक्ष्य भी वॉट्सऐप के रडार पर है। एक अन्य सूत्र ने बताया, 'इकोसिस्टम में किराना स्टोर्स को जोड़ लेने के बाद फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी सर्विसेज को रफ्तार देना आसान हो जाएगा।' एक अधिकारी ने कहा, 'मुकेश अंबानी का ट्रैक रिकॉर्ड देखते हुए अगर जियो अगले छह महीनों में एक करोड़ वॉट्सऐप फॉर बिजनेस एकाउंट्स जोड़ दें तो जुकरबर्ग की खुशी का ठिकाना नहीं रहेगा।'
 
सोशल मीडिया क्षेत्र की दिग्गज अमेरिकी कंपनी फेसबुक ने बुधवार सुबह रिलायंस जियो के साथ एक बड़ी डील की है। फेसबुक ने जियो में 5.7 बिलियन डॉलर यानी 43,574 करोड़ रुपये का निवेश किया है। इस तरह फेसबुक ने रिलायंस जियो की 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि फेसबुक के सहारे जियो का गेम प्लान क्या है? इससे भारत के आम लोगों को क्या फायदा होगा?  

गूगलपे, पेटीएम पर मिल सकती है बढ़त
वहीं, इस नई पार्टनरशिप से डिजिटल पेमेंट्स के क्षेत्र में कई छोटी कंपनियों का टिके रहना मुश्किल हो सकता है। फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी के एक्सपर्ट्स ने कहा कि वॉट्सऐप और जियो ने देशभर में तीन करोड़ किराना स्टोर्स को अपने पास-पड़ोस के कस्टमर्स के साथ डिजिटल लेनदेन में मदद करने की योजना बनाई है। उसके बाद ये कंपनियां किसानों, छोटे और मझोले उद्यमों, शिक्षकों और छात्रों को सेवाएं देंगी। उन्होंने कहा कि इससे वॉट्सऐप को गूगलपे (Google Pay), फोनपे (Phone Pay) और पेटीएम (Paytm)पर बढ़त मिल सकती है।