भोपाल । केंद्र सरकार की हाउस फॉर ऑल योजना के तहत भोपाल में नगर निगम ने 2200 करोड़ रुपए खर्च कर दिए हैं। लेकिन अभी तक एक भी मकान तैयार नहीं हुआ, ना ही किसी हितग्राही को मकान आवंटित हो पाया है। अभी जो मकान आवंटित हो रहे हैं। वह पुरानी योजनाओं के तहत निर्मित हुए थे।
संभागीय आयुक्त और नगर निगम के प्रशासक कवींद्र कियावत ने जब इस मामले की समीक्षा की, तो उन्होंने हाउस फॉर ऑल के प्रभारी इंजीनियर एआर पवार और अपर आयुक्त पर नाराजगी व्यक्त की।संभागीय आयुक्त ने कहा कि भोपाल के पास इस योजना में 50 हजार आवास का लक्ष्य है। 13000 आवासों को बनाने का दावा किया जा रहा है। 2200 करोड़ रूपए की राशि अभी तक खर्च हो गई लेकिन किसी भी हितग्राही को इसका लाभ नहीं मिला। इस पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त करते हुए जल्द ही प्रोजेक्ट को पूरा करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए है।