अज्ञात व्यक्ति/मरीज के मानव अधिकारों के संरक्षण की स्थायी व्यवस्था दो माह में सुनिश्चित करें

आयोग ने की अनुशंसा

मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने प्रकरण क्रमांक 4089/विदिशा/2018 में अनुशंसा की है कि मध्यप्रदेश शासन अज्ञात व्यक्ति या मरीज की देखभाल/इलाज के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करे और ऐसे व्यक्ति/मरीज के उचित और प्रभावी स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त करने के मौलिक/मानव अधिकार के संरक्षण हेतु स्थायी व्यवस्था अगले दो माह में सुनिश्चित करें :--
(01) ऐसा अज्ञात व्यक्ति, जिसकी पहचान अर्थात उसका नाम, पते आदि की जानकारी नही हो सके और उसे शासकीय अस्पताल में लाया गया हो।

(02) ऐसा अज्ञात व्यक्ति/मरीज, जिसकी भाषा/बोली इलाज कर रहे चिकित्सक/नर्सिंग स्टाॅफ को समझ में नही आ रही है अर्थात वह हिन्दी भाषी न होकर अन्य किसी भाषा/बोली से संबंधित व्यक्ति है।

(03) ऐसा अज्ञात व्यक्ति/मरीज, जो शासकीय अस्पताल में इलाज हेतु लाया गया है, लेकिन उसके साथ कोई अटेंडेंट (परिचारक) नहीं है।

(04) ऐसा अज्ञात व्यक्ति/मरीज, जो किसी शासकीय अस्पताल में बिना किसी अटेंडेंट (परिचारक) के इलाज हेतु लाया गया है और उसे अस्पताल से इलाज के लिए हायर हेल्थ सेंटर के अस्पताल में रेफर किया गया है, लेकिन उसके साथ अटेंडेट (परिचारक) नही होने से हायर हेल्थ सेंटर के अस्पताल में भेजे जाने की व्यवस्था नहीं हो रही है।