दिवाली के पूर्व या दीवाली के दिन यूं तो कई तरह के कार्य किए जाते हैं। परंतु दीवावली के पूर्व ये 5 कार्य जरूर करना चाहिए जिससे माता लक्ष्मी जब आपके घर आए तो इसे देखकर वह प्रसन्न हो जाए। आओ जानते हैं कि क्या है वह 5 कार्य।

दीवाली का त्योहार प्रतिवर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार यह पर्व 4 नवंबर 2021 को मनाया जाएगा।

1. लिपाई-पुताई : वर्षा के कारण गंदगी होने के बाद संपूर्ण घर की सफाई और लिपाई-पुताई करना जरूरी होता है। मान्यता के अनुसार जहां ज्यादा साफ-सफाई और साफ-सुथरे लोग नजर आते हैं, वहीं लक्ष्मी निवास करती हैं।
 2. वंदनवार : आम या पीपल के नए कोमल पत्तों की माला को वंदनवार कहा जाता है। इसे अकसर दीपावली के दिन द्वार पर बांधा जाता है। वंदनवार इस बात का प्रतीक है कि देवगण इन पत्तों की भीनी-भीनी सुगंध से आकर्षित होकर घर में प्रवेश करते हैं।
3. सुंदर बनाएं देहरी : दीपावली पर द्वार और देहलीज़ या देहरी का खासा महत्व रहता है। यदि आपकी देहरी टूटी-फूटी या खंडित हो तो उसे ठीक करवा कर उसे मजबूत और सुंदर बना लें। कोई भी व्यक्ति हमारे घर में प्रवेश करे तो दहलीज लांघकर ही आ पाए। सीधे घर में प्रवेश न करें।
 4. रंगोली : रंगोली या मांडना को 'चौंसठ कलाओं' में स्थान प्राप्त है। उत्सव-पर्व तथा अनेकानेक मांगलिक अवसरों पर रंगोली से घर-आंगन को खूबसूरती के साथ अलंकृत किया जाता है। इससे घर-परिवार में मंगल रहता है।
5. दीपक : पारंपरिक दीपक मिट्टी का ही होता है। इसमें 5 तत्व हैं- मिट्टी, आकाश, जल, अग्नि और वायु। हिन्दू अनुष्ठान में पंच तत्वों की उपस्थिति अनिवार्य होती है। धनतेरस से ही आप दीयों से घर को जगमगा दें। माता लक्ष्मी इसे देखकर प्रसन्न हो जाएंगी।