मुंबई के गोरेगांव इलाके में बुधवार रात नाले में गिरे दो साल के मासूम दिव्यांश का शुक्रवार देर रात तक भी कुछ पता नहीं लग सका. जिसके बाद बचाव अभियान को बंद कर दिया गया. एनडीआरएफ के बाद फायर ब्रिगेड ने भी बाद में बचाव कार्य बंद कर दिया. अधिकारियों ने बताया कि जल निकासी की पूरी जांच की गई. वहीं समुद्र क्षेत्र में भी काफी ढूंढा गया लेकिन मासूम का कुछ पता नहीं चल सका.

ड्रोन की भी ली गई मदद

बीएमसी के अधिकारियों ने बताया कि बचाव दल ने ड्रोन की मदद से भी दिव्यांश को खोजने की कोशिश की लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी. अब बचाव अभियान को रोक दिया गया है. अधिकारियों के अनुसार करीब तीन दिन तक चले बचाव अभियान के दौरान क्षेत्र के सभी बड़े नालों और निकासी की जगह पर बवाव कर्मियों ने सभी जगह खोज की लेकिन दिव्यांश का कोई सुराग नहीं मिला.

बीएमसी अधिकारियों पर दर्ज हो मामला, इस्तीफा दें मेयर

वहीं मासूम के पिता सूरज और सामाजिक कार्यकर्ता श्रवण तिवारी ने कहा कि पुलिस ने बीएमसी अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया है. इसके विरोध में अब सभी शनिवार को बीएमसी ऑफिस के बाहर विरोध प्रदर्शन करेंगे. सूरज ने कहा कि हमारी मांग है बीएमसी के अधिकारियों पर एफआईआर दर्ज की जाए. साथ ही मुंबई के मेयर मामले की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दें.

बुधवार रात को गिरा था दिव्यांश
गौरतलब है कि गोरेगांव क्षेत्र में दो साल का दिव्यांश बुधवार रात 10.30 बजे घर के बाहर एक खुले नाले में गिर गया था. इस दौरान पास की मस्जिद में लगे सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद घटना का पता चला था. जिसके बाद उसकी खोज शुरू की गई थी लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका था.