अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या में कोविड-19 के प्रोटोकाल का अक्षरश: पालन करते हुए तीन दिन भव्य दीपोत्सव मनाया जाएगा।

आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि दीपोत्सव कार्यक्रम में पांच लाख पचास हजार दीप प्रज्ज्वलित किए जाएंगे। दीपोत्सव के दौरान सभी कार्यक्रमों का सजीव प्रसारण होगा। कई स्थानों पर एलईडी डिस्पले बोर्ड तथा एलईडी वैन लगाई जाएगी ताकि जनमानस जगह जगह भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम का आनन्द उठा सके।

उन्होंने बताया कि रामायण काल पर आधारित 11 झांकियां निकाली जाएंगी। कोविड-19 के चलते इस बार के दीपोत्सव कार्यक्रम में कोरोना महामारी से सुरक्षा के लिए बहुत ही सीमित संख्या में पर्यटक अयोध्या में रहेंगे।
कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित दीपोत्सव कार्यक्रम तैयारी बैठक की अध्यक्षता करते हुए मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल ने बताया कि इस बार भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम 11 से 13 नवम्बर तक अर्थात् तीन दिवसीय होगा।

मुख्य कार्यक्रम के एक दिन पूर्व 12 नवम्बर को कासु साकेत महाविद्यालय से रामायण काल पर आधारित ग्यारह झांकियां निकाली जाएंगी जो नए घाट सरयू तट पर स्थित रामकथा पार्क तक जाएगी। शोभायात्रा में निकाली जा रही झांकियों में सचित्र पात्र होंगे जो रामायण काल में घटित घटनाओं का सचित्र दृश्य प्रस्तुत करेंगे।

जिला मजिस्टे्रट अनुज कुमार झा ने बताया कि राज्याभिषेक के दौरान हेलीकाप्टर से पुष्प वर्षा होगी। 13 नवम्बर को मुख्य कार्यक्रम रामकथा पार्क, राम की पैड़ी, नयाघाट, सरयू आरती स्थलों पर आयोजित होगा।

रामकथा पार्क में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि की ओर से श्रीराम, सीता, लक्ष्मण जी के स्वरूप की आरती के साथ उनका विधि विधान से राज्याभिषेक भी किया जाएगा। इस दौरान हेलीकाप्टर से पुष्प वर्षा भी होगी।

उन्होंने बताया कि सायं काल सरयू आरती के पश्चात भजन संध्या स्थल पर रामलीला का आयोजन तथा राम की पैड़ी पर दीप प्रज्ज्वलन का भी कार्यक्रम निर्धारित किया गया है।

उप पुलिस महानिरीक्ष/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने बताया कि कार्यक्रम के दौरान सुरक्षा व कानून व्यवस्था तथा कोविड-19 के दृष्टिकोण से वही लोग प्रवेश कर पाएंगे जिनके पास जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए परिचय पत्र होंगे। उन्होंने बताया कि अयोध्या आने वाले हर मार्ग पर चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था रहेगी, जिसके लिए बड़े पैमाने पर फोर्स की तैनाती भी की जाएगी।

अयोध्या में चौथे दीपोत्सव की तैयारी के लिये कल देर शाम अधिकारियों की बैठक सम्पन्न हुई, जिसमें इस बार कोविड-19 और सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए दीपोत्सव का वर्ल्ड रिकार्ड बनाने की तैयारी की गई। उन्होंने बताया कि पांच लाख पचास हजार दिए जलाए जाएंगे। माना जा रहा है कि दीपोत्सव में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बार रामलला के दरबार में दीप जलाएंगे।