दलित छात्र की मौत, पूरा स्कूल स्टाफ निलंबित

प्रमुख सचिव, पंचायत एवं ग्रामीण विकास एक माह में दें जवाब

दमोह जिले के तेंदूखेड़ा में जात-पात के भेद ने एक मासूम की बलि ले ली। घटना जिले के तेदूखेड़ा के खमरियाकलां गांव की है। यहां प्राथमिक स्कूल में पढ़ने वाले कक्षा तीसरी के एक दलित छात्र को स्कूल के हैंडपंप पर पानी पीने से रोका गया, तो वह स्कूल के पास ही बने एक कुंए पर जा पहुंचा, लेकिन बाटल में रस्सी बांधकर पानी निकालते समय कुंए में गिरने से उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। घटना की सूचना मिलने पर खमरियाकलां गांव पहुंचे जनपद सीईओ ने पूरे स्कूल स्टाफ को निलंबित कर दिया। उन्होंने बताया कि इस स्कूल के हेड मास्टर सहित पांच शिक्षकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। मामले में संज्ञान लेकर मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने प्रमुख सचिव, म.प्र. शासन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, मंत्रालय तथा कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक एवं सीईओ जनपद पंचायत दमोह से एक माह में जवाब मांगा है।