नैनीताल: कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी की संभावित तीसरी लहर जल्द आने की आंशका के बीच शिमला, मनाली जैसे कई टूरिस्ट प्लेस (Tourist Place) पर पर्यटकों की भीड़ बढ़ने लगी है. इस दौरान लोग कोविड-19 गाइडलाइन का भी पालन नहीं कर रहे हैं. इस नजारे से चिंतित उत्तराखंड हाई कोर्ट (Uttarakhand High Court) ने सख्ती दिखाते हुए प्रशासन को ध्यान देने के आदेश दिए हैं.

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन हुआ जरूरी
हाई कोर्ट का आदेश आते ही नैनीताल में पाबंदियां लगा दी गई हैं. यहां के डीएम धीराज सिंह गर्ब्याल ने शुक्रवार को आदेश जारी करते हुए शहर में बेरोकटोक एंट्री को बंद कर दिया है. साथ ही शहर में आने के लिए कई नियम लागू कर दिए हैं. आदेश के अनुसार, नैनीताल में अब सिर्फ उन्हीं वाहनों को एंट्री दी जाएगी जिनका रजिस्ट्रेशन देहरादून स्मार्ट पोर्टल में होगा और 72 घंटे की कोविड नेगेटिव रिपोर्ट (Corona Negative Report) उनके पास होगी.


देना होगा होटल रजिस्ट्रेशन का प्रूफ
इतना ही नहीं, पर्यटकों को चेकिंग के दौरान होटलों की बुकिंग का प्रमाण भी दिखाना होगा. ऐसे में अगर कोई नियमों का उल्लंघन करते पकड़ा जाता है तो उस पर आपदा प्रबंधन एक्ट समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाएगा. डीएम ने कहा कि, 'हमने वीकेंड की भीड़ को कम करने के लिए ये आदेश जारी किया है जो 9 जुलाई से 12 जुलाई तक प्रभावी रहेगा. वहीं स्थानीय लोगों के साथ कार्यालय आने वालों को शहर में आसानी से एंट्री दी जाएगी.'


बाइक से आने वाले यहां ध्यान दें
वीकेंड के दौरान नैनीताल आने वाले पर्यटकों के लिए पुलिस ने रूट बनाए है. एक अलग स्टीकर इन गाड़ियों पर लगाया जाएगा. सीधे नैनीताल आने वाले पर्यटकों के वाहन पर ब्लू स्टीकर लगाया जाएगा और उन्हें कालाढुंगी से प्रवेश दिया जाएगा. वहीं, भवाली रामगढ़ अल्मोड़ा पिथौरागढ़ जाने वाले वाहनों को भवाली स्लिप दी जाएगी जो बया ज्योलिकोट आवाजाही की अनुमति दी जाएगी. इसके अलावा भीमताल नौकुचियाताल जाने वाले पर्यटकों को हल्द्वानी के रानीबाग से जाने की अनुमति होगी. बाइकों से आने वालों को नारायण नगर और रूसी बाईपास पर रोका जाएगा जिसके बाद यहां से शटल सेवा से नैनीताल लाया जाएगा.


केम्पटी फॉल्स पर लगेंगे चेक पोस्ट
इससे पहले मसूरी के टॉप टूरिस्ट प्लेस केम्पटी फॉल (Kempty Falls) पर अब एक बार में 50 पर्यटक ही नहा पाएंगे. साथ ही झरने में रुकने का टाइम भी अधिकतम आधा घंटा निर्धारित कर दिया गया है. इतना ही नहीं, टिहरी के डीएम इवा आशीष श्रीवास्तव ने केम्पटी फॉल्स में चेक पोस्ट लगाने और सीमित संख्या में पर्यटकों के प्रवेश के आदेश भी जारी किए हैं ताकि कोविड-19 नियमों के तहत पर्यटकों की चेकिंग की जा सके. हर आधे घंटे में अब हूटर भी बजा करेगा जो लोगों के लिए झरने से निकलने का संकेत होगा.

हिमाचल में E-pass हुआ अनिवार्य
हिमाचल प्रदेश सरकार ने भी टूरिस्ट प्लेस मनाली, शिमला आने वाले पर्यटकों के लिए ट्रेवल एडवाइजरी जारी करते हुए ई-पास (E-pass) को अनिवार्य कर दिया है. हालांकि राज्य में एंट्री के लिए कोरोना नेगेटिव की रिपोर्ट की अब जरूरत नहीं होगी. इस कारण अब पर्यटकों को चेकिंग के कारण लगने वाले लंबे जाम का सामना नहीं करना पड़ेगा.