चीन के खतरनाक मंसूबों के चलते एलएसी को लेकर अब तक कोई भी कूटनीतिक पहल कामयाब नहीं हुई है। गलवान हिंसा के बाद से अब तक विदेश मंत्री, रक्षा मंत्री, दो विशेष प्रतिनिधियों की बातचीत, भारत-चीन सीमा मामलों पर परामर्श और समन्वय के कार्य तंत्र के अलावा कमांडर स्तर की कई दौर की बातचीत हुई है। लेकिन, हर बातचीत के बाद चीन का रवैया जमीन पर अलग होता है। जयशंकर चीन के इस रुख को बेनकाब करेंगे।

मॉस्को में 10 सितंबर को विदेश मंत्री एस. जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के मुलाकात की संभावना है। हालांकि, अभी तक भारत ने आधिकारिक रूप से जयशंकर-वांग यी मुलकात की पुष्टि नहीं की है। माना जा रहा है कि भारत की नजर सीमा के डेवलपमेंट पर बनी हुई है। स्थिति के मुताबिक एससीओ बैठक के दौरान ही मुलाकात पर फैसला होगा

सूत्रों ने कहा, विदेश मंत्रालय ने हर बार स्पष्ट किया है कि चीन ने आपसी सहमति का पालन नहीं किया है। भारत चाहता है कि समयबद्ध तरीक़े से चीन सीमा पर सहमति का पालन करते हुए डिसइंगेजमेंट की प्रक्रिया पूरी करे। सूत्रों ने कहा, चीनी पक्ष बातचीत के निष्कर्ष जमीन पर अपनी सुविधा के मुताबिक तय करता है।

दो टूक बात होगी
मॉस्को में विदेश मंत्री एस. जयशंकर चीनी विदेश मंत्री वांग यी के सामने ये तर्क मजबूती से रखेंगे कि आखिर सीमा पर शांति के लिए जरूरी पहल से चीन क्यों मुंह मोड़ रहा है। सूत्रों ने कहा, गलवान हिंसा के बाद 17 जून को दोनों विदेश मंत्रियों की फोन पर बातचीत हुई थी, जिसमें दोनों पक्षों में जिम्मेदारी से स्थिति संभालने पर सहमति बनी थी। अब एक बार फिर बेहद तनाव की स्थिति में दोनों विदेशमंत्रियों की सीधे आमने सामने बातचीत की संभावना बनी है। ऐसे में इस बातचीत पर सबकी निगाहें टिकी हैं।

गुमराह करने का एजेंडा
सूत्रों ने कहा कि चीन दुनिया को गुमराह करने के लिए बातचीत और एलएसी को लेकर अपना एजेंडा आगे बढ़ा रहा है। सीमा पर यथास्थिति में बदलाव का बार-बार प्रयास उसकी ओर से हो रहा है। साथ ही उसने मई के पूर्व वाली स्थिति में जाने के लिए जरूरी सेनाओं की वापसी की प्रक्रिया पूरी करने के बजाय सेना का जमावड़ा बढ़ा दिया है।

पहले की हुई वार्ता का हवाला देंगे
सूत्रों ने कहा, जयशंकर चीनी विदेश मंत्री को 17 जून को हुई विदेश मंत्री स्तर की बातचीत और 5 जुलाई को हुई विशेष प्रतिनिधि स्तर की बातचीत का हवाला देंगे। साथ ही पूर्व में मोदी - जिनपिंग वार्ता की भावना का हवाला दिया जाएगा। सूत्रों ने कहा कि चीन की तरफ से बार बार सीमा पर उकसाने वाली कार्रवाई हो रही है, इसलिए बातचीत का माहौल भी बिगड़ रहा है। लग रहा है कि किसी खास उद्देश्यों के तहत ऐसा किया जा रहा है। गौरतलब है कि जयशंकर को चीन मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है। सूत्रों ने कहा, भारत बातचीत का दायरा बढ़ाने को भी तैयार है। बशर्ते चीन अपनी ओर से ग्राउंड पर सार्थक पहल करे।

इन सभी समझौतों को तोड़ रहा चीन

- 1993 में भारत-चीन सीमा क्षेत्रों में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति और स्थिरता के रखरखाव पर समझौता
- 1996 में एलएसी के साथ सैन्य क्षेत्र में विश्वास निर्माण उपायों पर समझौता
- 2005 में एलएसी के साथ सैन्य क्षेत्र में विश्वास बहाली के उपायों के कार्यान्वयन के लिए तौर-तरीकों पर प्रोटोकॉल
- 2012 में भारत-चीन सीमा मामलों पर परामर्श और समन्वय के लिए एक कार्य प्रणाली की स्थापना पर समझौता
- 2013 सीमा रक्षा सहयोग समझौता