मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में सबसे पहले एक सफाईकर्मी को टीका लगा कर इसकी शुरुआत की गई।

कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में सबसे पहले एक सफाईकर्मी को टीका लगा कर इसकी शुरुआत की गई। प्रदेश में टीकाकरण केन्द्र पर टीका लगवाने वालों का जहां फूलों से स्वागत किया गया वहीं ग्वालियर में डॉक्टरों ने हनुमान मंदिर में पूजा अर्चना कर इसकी शुरुआत की।

इस अभियान के तहत पहले दिन शाम पांच बजे तक प्रदेश के 150 टीकाकरण केन्द्रों पर 9,564 लोगों का टीकाकरण किया गया। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मौके पर कोरोना योद्धाओं का आभार जताया। प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश के भोपाल, इन्दौर और ग्वालियर सहित अनेक शहरों में टीकाकरण केन्द्रों को फूलों और गुब्बारों से सजाया गया। ग्वालियर में टीकाकरण अभियान शुरु होने से पहले डॉक्टरों ने हनुमान मंदिर में पूजा अर्चना की।

मध्य प्रदेश के 150 केंद्रों पर टीकाकरण अभियान शुरु किया गया है इसमें भोपाल के 12 केन्द्र शामिल हैं। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में टीकाकरण के इस अभियान के पहले चरण में 4.17 लाख स्वास्थ्य और सफाईकर्मियों को टीके लगाये जायेंगे। मुख्यमंत्री सुबह यहां भोपाल के शासकीय हमीदिया अस्पताल के टीकाकरण केन्द्र पर पहुंचे। उन्होंने कोरोना टीका लगाने वाले कुछ लोगों से बात भी की।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का वीडियो संबोधन भी सुना। चौहान ने कोरोना संकट के दौरान लोगों के इलाज के लिये सहयोग करने के लिये कोरोना योद्धाओं का आभार व्यक्त किया। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि दूसरे चरण में अग्रिम पंक्ति के कोरोना योद्धाओं को टीका दिया जायेगा। टीकाकरण के दिशा निर्देशों के तहत सभी सावधानियां बरती गई हैं और टीकाकरण के बाद उन्हें आधे घंटे तक अस्पताल में ही निगरानी में रखा जा रहा है।

प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि हमीदिया अस्पताल में स्वच्छताकर्मी को कोविड-19 के टीके की पहली खुराक दी गयी। उन्होंने बताया कि टीका लगवाने वालों में टीकाकरण को लेकर कोई आशंका नहीं थी। राज्य को अब तक कोविशील्ड टीके की 5,06,500 खुराकें मिल चुकी हैं।