नई दिल्ली | दिल्ली सरकार ने सोमवार को कोरोनो वायरस (कोविद -19) दिशानिर्देशों के उल्लंघन को लेकर पश्चिम दिल्ली के जिलों के पंजाबी बाग और नांगलोई क्षेत्र में दो बाजारों को बंद करने का अपना आदेश वापस ले लिया। डीएम कार्यालय द्वारा जारी आदेश के अनुसार ये दोनों बाजार 30 नवंबर तक बंद रहने थे।

शुक्ल बाजार मार्केट एसोसिएशन, नांगलोई मार्केट के महासचिव सुभाष बिंदल ने कहा कि बाजार को सील करना गलत था। यहां सभी मानदंडों का पालन किया जा रहा था। उन्होंने बाजार के पास मुख्य सड़क पर भीड़ के आधार पर इसे सील कर दिया था। कल रात आदेश वापस ले लिया गया।

इससे पहले रविवार को पश्चिमी जिला के अतिरिक्त जिलाधिकारी (एडीएम) धर्मेद्र कुमार की ओर से जारी आदेश के मुताबिक पंजाबी बस्ती मार्केट और जनता मार्केट नांगलोई को बंद करने का आदेश दिया गया। आपदा प्रबंधन एक्ट में मिले अधिकार के तहत इस बाजार को बंद करने का आदेश जारी किया गया था। धर्मेंद्र कुमार ने बताया था कि दिवाली के समय भी यहां भीड़ हो रही थी। तब हमें लगा त्यौहार का समय है। मगर अब त्यौहार बीत गया है, मगर भीड़ कम नहीं हुई।

बताते चले कुछ दिन पहले दिल्ली सरकार ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जरूरत पड़ने पर बाजारों को बंद करने का निर्णय लिया था। मंजूरी के लिए प्रस्ताव बनाकर केंद्र सरकार को भेजा है। वहां अभी तक मंजूरी तो नहीं मिली है। मगर दिल्ली में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिेए स्थानीय स्तर पर अधिकारी कड़े फैसले ले रहे है। आधिकारियों की माने तो यह बाजार वैसे भी अवैध तरीके से लगता है। कोविड संक्रमण ना फैले इसलिए यह फैसला किया गया।