जोधपुर. कोरोना (COVID-19) ने राजस्थान के दूसरे सबसे बड़े शहर जोधपुर (Jodhpur) में हाहाकार मचा दिया है. जोधपुर में कोरोना संक्रमण की दर (Infection rate) 43 प्रतिशत पहुंच चुकी है. यहां एक दिन में 19 मौतें तक होने लगी है. इस साल के साढ़े तीन महीनों में ही अब तक 108 लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत (Death) हो चुकी है. इन मौतों में डराने वाली बात यह सामने आ रही है कि 108 में से 42 को कोई दूसरी बीमारी नहीं थी.

कोरोना ने सोमवार को जोधपुर पर सबसे बड़ा अटैक किया. यहां सोमवार को एक दिन में 19 मरीजों की कोरोना पीड़ितों की मौत हो गई. यह आंकड़ा सुनकर हर कोई सकते में आ गया. वहीं 1641 नये कोरोना मरीज पॉजिटिव सामने आये हैं. सोमवार को जोधपुर में जितनी मौतें हुई है उतनी राजस्थान के किसी भी शहर में नहीं हुई है. जोधपुर शहर में कल 3811 लोगों की हुई कोरोना जांच में से 1641 लोग इससे संक्रमित पाये गये हैं. इस लिहाजा शहर में कोरोना संक्रमण की दर 43 फीसदी तक जा पहुंची है.

मौत के लिहाज से भी खतरनाक साबित हो रही है दूसरी लहर

कोरोना की दूसरी लहर ना केवल संक्रमण के लिहाज से बल्कि मौत के लिहाज से भी खतरनाक साबित हो रही है. इस साल जनवरी से अब तक शहर में 108 मरीजों की मौत कोरोना संक्रमण के चलते हो गई. खतरनाक संकेत यह है कि इनमें से 42 मरीजों में दूसरी कोई बीमारी नहीं थी. यानी 42 लोग सिर्फ कोरोना महामारी के कारण अकाल मौत के शिकार हो गये. इन सभी लोगों की मौत दम घुटने से हुई.

इलाज के लिये मारामारी का दौर शुरू हो गया है

उल्लेखनीय है कि जोधपुर पिछली बार भी कोरोना संक्रमण का बड़ा एपिसेंटर था. कोरोना की दूसरी लहर में जोधपुर के हालात पहली लहर से ज्यादा खतरनाक हो गये हैं. यहां गली-गली में कोरोना संक्रमण ने अपना डेरा जमा रखा है. कोरोना के तेजी से फैलने से अब अस्पतालों में इलाज के लिये मारामारी का दौर शुरू हो गया है.