पटना. इस वक्त की बड़ी खबर बिहार के सियासी गलियारे से है, जहां राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की रिहाई एक सप्ताह तक के लिए टल गई है. लालू यादव को कुछ दिन पहले चारा घोटाले (Fodder Scam) से जुड़े मामले में न्यायालय से जमानत मिली है, लेकिन अब उनको रिहाई के लिए इंतजार करना पड़ रहा है. लालू प्रसाद यादव के वकील प्रभात कुमार से न्यूज़ 18 को जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक लालू प्रसाद यादव को रिहाई के लिए अब आने वाले रविवार तक का इंतजार करना होगा.

दरअसल, कोरोना के कारण ही लालू प्रसाद यादव की रिहाई का मामला अटक गया है. कोविड-19 को लेकर झारखंड बार काउंसिल ने फैसला लिया है कि अगले 7 दिनों तक कोर्ट में किसी तरह का कार्य में एडवोकेट हिस्सा नहीं लेंगे, ऐसे में बार काउंसिल के फैसले के बाद कानूनी प्रक्रिया अवरुद्ध हो गई है. लालू के वकील प्रभात कुमार के मुताबिक अब सोमवार यानी 26 अप्रैल को लालू प्रसाद यादव की रिहाई के लिए बेल बांड भरा जाएगा.

करोड़ों रुपये के चारा घोटाले के चार मामलों में सजायाफ्ता बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव को झारखंड हाईकोर्ट से दुमका कोषागार मामले में भी शनिवार को जमानत मिल गई थी. लालू को जमानत मिलते ही बिहार की सियासत गरमा गई थी और उनके समर्थकों का जोश देखते ही बन रहा था. लालू प्रसाद को जमानत मिलने के बाद भी उनके परिवार के लोगों ने एम्स में ही रखने का फैसला लिया था.

चारा घोटाला के दुमका कोषागार मामले में रांची हाईकोर्ट में जमानत पर फैसले के पहले लालू प्रसाद का पूरा परिवार भगवान की शरण में पहुंच गया था. लालू की बेटी राहिणी आचार्य रमजान के महीने में रोजा रखने के साथ चैत्र नवरात्र में मां दुर्गा की पूजा भी कर रही हैं. वहीं, लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव भी मां दुर्गा की पूजा कर रहे हैं. इस बीच छोटे बेटे व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने झारखंड के देवघर में भगवान भोलेनाथ की पूजा की थी.