नई दिल्ली। केरल के मलप्पुरम में गर्भवती हथिनी की दर्दनाक मौत पर केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर द्वारा संज्ञान लिए जाने पर कांग्रेस नेता गौरव गोगोई ने उनका ध्यान असम राज्य के हाथी गलियारे की ओर भी खींचा है। उन्होंने आग्रह किया है कि केंद्रीय मंत्री असम के देहिंग पटकाई रेनफॉरेस्ट में कोयला खनन पर रोक लगाने संबंधी आदेश जारी करें। इससे यहां भी हाथियों के जीवन पर आया संकट छट जाएगा।

असम के कलियाबोर लोकसभा सीट से कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने गुरुवार को ट्वीट कर राज्य में कोयला खनन रोके जाने की मांग की। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘आदरणीय प्रकाश जावड़ेकर जी, मैं हाथियों के लिए आपकी चिंता को देखकर प्रसन्न हूं। ऐसे में आपसे आग्रह है कि कृपया सुनिश्चित करें कि आपका मंत्रालय असम में देहिंग पटकाई रेनफॉरेस्ट क्षेत्र में कोयला खनन रोकने के लिए आवश्यक निर्देश जारी करे। यह इलाका भी एक हाथी गलियारा है।’

इससे पहले केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केरल में गर्भवती हथिनी की मौत की घटना पर संज्ञान लेते हुए दोषियों को बक्शे नहीं जाने की बात कही थी। साथ ही उन्होंने इस घटना की पूरी जांच कर दोषियों पर कार्रवाई होने का भरोसा जताया। उन्होंने कहा कि हथिनी को इस तरह पटाखे खिलाकर मारने की हमारी संस्कृति नहीं है। यह भारत की संस्कृति के खिलाफ है।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को केरल के मलप्पुरम में एक गर्भवती हथिनी को किसी ने पटाखों से भरा अनानास खिला दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। हथिनी गर्भवती थी और इससे उसके बच्चे की भी जान चली गई। इस शर्मनाक घटना का सोशल मीडिया पर हर कोई विरोध कर रहा है। इस घटना की तस्वीर वहां के वन विभाग के अधिकारी ने ही सोशल मीडिया पर डाली, जिसके बाद हथिनी की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है।