रायपुर. पं. रविशंकर शुक्ल विवि द्वारा अत्तरपुस्तिकाओं के वितरण के लिए की गई व्यवस्था की पोल पहले ही दिन खुल गई। उत्तरपुस्तिकाएं लेने के लिए छात्रों की ऐसी भीड़ कॉलेजों में उमड़ी की सभी मुख्य कॉलेजों के बाहर रोड जाम की स्थिति घंटों बनी रही। उत्तरपुस्तिकाएं लेने छात्रों को घंटों गर्मी और धूप में इंतजार करना पड़ा। इस दौरान किसी भी तरह की सोशल डिस्टेंसिंग या व्यवस्था नहीं दिखी। गर्मी से परेशान होकर छात्र बीच-बीच में अपने मास्क भी हटा रहे थे। कॉलेज खुलने के पहले ही उत्तरपुस्तिकाएं लेने विद्यार्थियों की लंबी लाइनें लग चुकी थीं। वक्त समाप्त होने तक कतारें लगी रहीं।

दुर्गा महाविद्यालय, डिग्री गर्ल्स कॉलेज, डागा महाविद्यालय, छत्तीसगढ़ कॉलेज, महंत कॉलेज सहित सभी मुख्य महाविद्यालयों में सैकड़ों की संख्या में छात्र पहुंचे। सभी महाविद्यालयों में अफरा-तफरी की स्थिति रही। जानकारी ना मिल पाने तथा व्यवस्था ना होने के कारण विद्यार्थियों और कॉलेज प्रबंधन के बीच कहासूनी की स्थिति भी बीच-बीच में बनती रही।

वितरण स्थगित

देर शाम तक भीड़ और अव्यवस्था की तस्वीरें सामने आने के बाद उच्च शिक्षा विभाग हरकत में आया। देर शाम सभी विश्वविद्यालयों को खत लिखा गया, जिसमें कहा गया कि उत्तरपुस्तिकाओं के वितरण और संग्रहण के लिए छात्रों को बुलाया जाना गलत है। इस पर रोक लगाने और कड़ाई के साथ इसका पालन करने कहा गया। आदेश के बाद रविवि ने तत्काल प्रभाव से उत्तरपुस्तिकाओं के वितरण पर रोक लगा दी है। हालांकि इसके स्थान पर क्या व्यवस्था की जाएगी, यह विवि प्रबंधन द्वारा स्पष्ट नहीं किया गया है।

कक्षा में भरवाई गई उत्तरपुस्तिकाएं

उत्तरपुस्तिकाएं प्रदान करने के बाद छात्रों को प्रथम पृष्ठ में मांगी गई जानकारी भरने कहा गया। इसमें छात्रों को अपने राेल नंबर, संस्था का नाम, विषय सहित अन्य जानकारियां देनी थी। स्टूडेंट्स द्वारा भरी गई उत्तरपुस्तिकाओं की जांच करने के बाद पर्यवेक्षकों द्वारा हस्ताक्षर कर इसे छात्रों को सौंपा गया। छात्रों को कक्षा में बैठाकर ही उत्तरपुस्तिकाएं भरवाई गईं। इस दौरान नजारा परीक्षा कक्ष की ही तरह रहा।