• सपा और आप की तरफ से जेईई और नीट की परीक्षा रद्द करने को लेकर प्रदर्शन हो चुका है
  • यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी इस परीक्षा को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला था

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जेईई और नीट परीक्षाओं के आयोजन को टालने की विपक्षी राजनीतिक दलों की मांग के बीच शुक्रवार को स्पष्ट किया कि यूपी सरकार इन परीक्षाओं के आयोजन का समर्थन करती है। हालांकि समाजवादी पार्टी और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता इस परीक्षा को रद्द करने का लेकर विरोध प्रदर्शन कर चुके हैं।

मुख्यमंत्री योगी ने लखनऊ लोकभवन में आयोजित एक उच्चस्तरीय बैठक में कहा, प्रदेश सरकार नीट तथा जेईई परीक्षाओं के आयोजन का समर्थन करती है। उन्होंने कहा, गत नौ अगस्त, 2020 को राज्य में बीएड की प्रवेश परीक्षा संपन्न हुई, जिसमें लगभग पांच लाख अभ्यर्थी थे। इस परीक्षा में कहीं से भी संक्रमण (कोरोना वायरस) की कोई खबर नहीं आई। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी प्रकार लोक सेवा आयोग, उत्तर प्रदेश की परीक्षा भी संपन्न कराई गई है।

अखिलेश यादव ने किया विरोध
इस बीच, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, जेईई, नीट परीक्षा कराने पर अड़ी भाजपा ने अब ये ख़ुलासा कर दिया है कि उसने 'मानव संसाधन मंत्रालय का नाम क्यों बदला, क्योंकि शिक्षा व शिक्षार्थियों के प्रति उसका दृष्टिकोण 'मानवीयता से रिक्त है। केन्द्र सरकार ने नई शिक्षा नीति को मंजूरी देने के साथ ही मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया है।

परीक्षा रद्द करने को लेकर आप ने भी किया विरोध प्रदर्शन
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नीट और जेईई परीक्षा स्थगित कराने को लेकर हनुमान सेतु के पास आम आदमी पार्टी के छात्र विंग ने प्रदर्शन किया। हनुमान सेतु पर शिक्षा मंत्री की अर्थी विरोध निकालकर प्रदर्शन किया। इस दौरान पुलिस और आम आदमी पार्टी छात्र विंग के बीच झड़प हुई। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करते हुए छात्रों को वहां से भगाया।