पटना |  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार की शाम अपने दल जदयू के हारे हुए करीब तीन दर्जन प्रत्याशियों से मुलाकात की। उन्होंने इनसे उनकी हार की वजह जानी। इनमें से कई ऐसे थे जो पिछले तीन-चार चुनावों से लगातार जीत रहे थे पर अबकी चुनाव हार गए। नीतीश कुमार ने सबकी बातें सुनी और उन्हें कहा कि घबराने की बात नहीं है। नई ऊर्जा के साथ फिर से लगना है। राजनीति में हार-जीत लगी रहती है। सबलोग नए सिरे से काम कीजिए। ज्यादातर हारे हुए प्रत्याशियों ने अपनी हार की वजह लोजपा को बताया। शाम सवा पांच बजे जदयू दफ्तर पहुंचे नीतीश कुमार ने प्रत्याशियों से वन-टू-वन बात की। इस दौरान उनके साथ पार्टी मुख्यालय स्थित कर्पूरी सभागार में आरसीपी सिंह , विजय कुमार चौधरी, अशोक चौधरी, संजय झा, अली अशरफ फातमी, देवेश चन्द्र ठाकुर और नीरज कुमार भी मौजूद रहे। जदयू नेताओं ने खुलकर अपनी हार का कारण बताया। वहीं कइयों ने विपक्ष में वाम दलों से आयी मजबूती की भी जानकारी दी। नीतीश कुमार से जिन नेताओं  मुलाकात कर हार पर चर्चा की उनमें मंत्री रहे कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, रमेश ऋषिदेव, संतोष निराला, मनीष कुमार, चन्द्रसेन प्रसाद, पहली बार चुनाव लड़ने वाली आसमां परवीन आदि प्रमुख थे। इस दौरान पार्टी नेता संजय गांधी और नवीन कुमार आर्य भी मौजूद रहे। 

नीतीश कुमार से जदयू दफ्तर में मिले कई भाजपा नेता
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने भाजपा के कई नेता शुक्रवार की शाम जदयू कार्यालय पहुंचे। चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचने वाले इन नेताओं में विनोद नारायण झा, प्रमोद कुमार, नितिन नवीन और संजीव चौरसिया शामिल थे। नीतीश कुमार ने सभी को बधाई और शुभकामनाएं दीं।