नई दिल्ली । शीर्ष नेतृत्व की प्रतीक्षा कर रही कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए शायद अब अच्छी खबर आने वाली है। पंजाब और छत्तीसगढ़ में जारी अंतर्कलह के बीच पार्टी ने अगले सप्ताह कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक बुलाने का फैसला किया है। बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव पर विचार-विमर्श होने की संभावना है। आपको बता दें कि कांग्रेस महामारी का हवाला देकर कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव को टाल रही थी। जिसकी वजह से कांग्रेस का एक धड़ा नाराज चल रहा था, जिसे जी 23 का नाम दे दिया गया था हालांकि इन 23 नेताओं में शामित जितिन प्रसाद ने पार्टी का साथ छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। इतना ही नहीं जी 23 के नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने पर भी नाखुश हैं।
उधर, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने शुक्रवार को मंच साझा किया। जिसमें गहलोत ने पालयट का नाम लिए बिना उन्हें एक संदेश दे दिया। उन्होंने कहा कि प्रतीक्षा करने वालों के लिए अवसर आते हैं। आपको बता दें कि दो विधानसभा सीटों पर उपचुनाव से पहले कांग्रेस ने एकजुटता का प्रदर्शन किया और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और अन्य नेता हेलीकॉप्टर में एक साथ यात्रा की और वल्लभनगर और धरियावाद में कांग्रेस उम्मीदवारों के समर्थन में आयोजित रैलियों को संबोंधित किया। गहलोत ने कहा कि पार्टी का सच्चा सिपाही वही है जो कल तक टिकट मांगता था और फिर शामिल होकर (पार्टी के लिए) काम करता है। उनका सम्मान समाज में बढ़ता है। मैंने सोनिया गांधी को कांग्रेस के एक सम्मेलन में यह कहते सुना था कि धैर्य रखने वाले को अवसर मिलते हैं।
कुछ वक्त पहले कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा था कि सीडब्ल्यूसी की बैठक जल्द ही होगी लेकिन उन्होंने तारीख नहीं बताई थी। हालांकि अब कहा जा रहा है कि अगले सप्ताह सीडब्ल्यूसी की बैठक होगी। हाल ही में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी नेतृत्व पर निशाना साधते हुए पंजाब के घमासान पर चिंता जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि सीडब्ल्यूसी की बैठक बुलाकर इस स्थिति पर चर्चा होनी चाहिए तथा संगठनात्मक चुनाव कराए जाने चाहिए।