मध्यप्रदेश में 12 बजे से चक्काजाम:कृषि कानून वापसी के लिए तीन घंटे तक हाईवे जाम करेंगे किसान; इंदौर, भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, सागर, ग्वालियर समेत अन्य जिलों में पूरी तैयारी

कृषि बिल को लेकर किसान 72 दिनों से दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं।

कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसान आज शनिवार को मध्य प्रदेश में चक्काजाम करेंगे। इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन, सागर सहित अन्य जिलों में किसान नेता दोपहर 12 से 3 के बीच हाईवे पर चक्काजाम करेंगे। हालांकि जाम के दौरान एंबुलेंस और स्कूल बस जैसी जरूरी सेवाओं को छूट रहेगी। चक्काजाम आंदोलन कर रहे 40 किसान संगठनों द्वारा बनाए गए संयुक्त किसान मोर्चा ने ये चक्काजाम बुलाया है। शनिवार दोपहर 12 से 3 बजे तक चक्काजाम रहेगा। इस दौरान गाड़ियों को चलने नहीं दिया जाएगा। सभी नेशनल और स्टेट हाईवे पर यातायात अवरुद्ध किया जाएगा।

इंदौर में राऊ पिगडंबर एबी रोड पर किसान करेंगे जाम

कृषि कानूनों के खिलाफ 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर परेड निकालने वाले किसान शनिवार को देशभर में दोपहर 12 से 3 बजे तक चक्काजाम करेंगे। इंदौर में भी बड़ी संख्या में महाराणा प्रताप चौराहा, राऊ पिगडंबर एबी रोड पर किसान 3 घंटे तक हाईवे को जाम करेंगे। हालांकि, किसानों ने कहा है कि प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहेगा।

उज्जैन में आगर रोड और चंदेसरा गांव के पास होगा चक्काजाम

किसान आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस और किसान यूनियन के नेता और कार्यकर्ता सड़क जाम करने की सुबह से तैयारी में जुटे हुए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष महेश सोनी ने बताया जिलेभर से लोग किसान कानून के विरोध में आगर रोड स्थित सोया चौपाल के पास और देवास रोड पर चंदेसरा गांव के पास सड़क जाम कर सांकेतिक प्रदर्शन करेंगे। एसपी सत्येंद्र शुक्ला ने बताया कि प्रदर्शन को देखते हुए यातायात को डायवर्ट कर दिया गया है। आगर की ओर से आने वाले वाहनों को ढाबला रहवारी और MR-5 की तरफ डायवर्ट किया गया है। इसी तरह से देवास रोड पर पाइप फैक्ट्री चौराहे से रिंग रोड होते हुए वाहनों को शहर से बाहर निकाला जाएगा।

भोपाल में किसान नेता शहर के बाहर खातेगांव पहुंचे, राजधानी में प्रदर्शन की उम्मीद कम

भोपाल में पुलिस की दबाव बनाने की रणनीति कामयाब होती दिख रही है, क्योंकि अब तक यहां पर कोई भी संगठन खुलकर चक्काजाम करने की बात लेकर सामने नहीं आया है। किसान नेताओं का भी कहना है कि सभी प्रमुख और बड़े किसान नेता शहर से बाहर हैं। वे खातेगांव में महापंचायत कर रहे हैं। ऐसे में राजधानी में प्रदर्शन का नेतृत्व करने के लिए कोई बड़ा नेता नहीं है, इसलिए यहां पर चक्काजाम या बड़ा प्रदर्शन किए जाने की संभावना काफी कम है।

सागर के रेहली और गढ़ाकोटा में कांग्रेस करेगी प्रदर्शन

सागर में किसानों के चक्का जाम की कोई सूचना नहीं है। भारतीय किसान संघ के जिला मीडिया प्रभारी अधिवक्ता जममोहन लोधी ने कहा कि हम आंदोलन के साथ नहीं है। इस वजह से हमारी तरफ से कोई विरोध प्रदर्शन नहीं है। कांग्रेस अवश्य इस मामले में किसानों को लेकर प्रदर्शन करने की तैयारी में है। सागर जिले के रेहली और गढ़ाकोटा में चक्काजाम की तैयारी है। कांग्रेस के कमलेश साहू आंदोलन की अगुवाई कर रहे है।

जबलपुर के पाटन में होगा प्रदर्शन

जबलपुर में कृषि कानूनों के विरोध में कांग्रेस की तरफ से पाटन में दोपहर 12 बजे से प्रदर्शन किया जाएगा। नगर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश यादव ने बताया कि इस प्रदर्शन में वर्तमान और पूर्व विधायक भी शामिल होंगे। सड़क जाम कर ये प्रदर्शन होगा। वहीं गोहलपुर सब्जी मंडी में तीन बजे प्रदर्शन रैली निकाली जाएगी।

ग्वालियर में बड़ागांव, रायरू हाईवे पर किसान तीन घंटे लगाएंगे जाम

शहर के बड़ागांव और रायरू हाईवे पर किसान प्रदर्शन कर रास्ता जाम करेंगे। दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक हाईवे पर ट्रैफिक थमा रहेगा। शनिवार को होने वाले जाम के लिए शुक्रवार को किसानों ने रिहर्सल भी की है। उन्होंने बड़ागांव हाइवे पर गणेशपुरा के पास पहुंचकर हाईवे जाम भी किया और नारेबाजी भी की। शनिवार को यहां बड़ागांव पर स्कूल-कॉलेज आने-जाने वाले जाम में फंस सकते हैं।