नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में हलफनामा पेश करने के बाद अब सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षा को लेकर नोटिफिकेशन (CBSE Board Exam Notification) जारी कर दिया है. इस नोटिफिकेशन में सारी बातें बोर्ड ने विस्तार से बताई हैं. हम आपको बताते हैं कि क्या खास है इस नोटिफिकेशन में- दसवीं और 12वीं की 1 जुलाई से 15 जुलाई तक होने वाली परीक्षा को स्थगित रखा जाएगा. कैंसिल हुई परीक्षा में छात्रों के असेसमेंट का निर्धारण असेसमेंट स्कीम के तहत किया जाएगा.12वीं के जो छात्र 15 जुलाई तक आने वाले नतीजे से खुश होंगे उनके लिए एग्जाम ज़रूरी नहीं होगा. लेकिन जो छात्र असेस्मेंट के नंबर से खुश नहीं होंगे या और बेहतर करना चाहते हैं वह एग्जाम से सकते है. जो भी छात्र एग्जाम देंगे उनका एग्जाम वाले नंबर ही अंतिम माने जाएंगे. असेस्मेंट के नंबर नहीं जुड़ेंगे. 12वीं क्लास के स्टूडेंट्स बाद में एग्जाम दे सकते हैं. अगर वे ऐसा विकल्प चुनते हैं तो परीक्षा में हासिल किए गए नंबर ही फाइनल होंगे. असेस्मेंट के नंबर नहीं जुड़ेंगे. दसवीं कक्षा की परीक्षा अब नहीं होगी. असेसमेंट स्कीम के तहत घोषित रिजल्ट ही अंतिम होगा.

ऐसे होगा CBSE का असेस्मेंट
जिन छात्रों ने अब तक तीन से ज़्यादा पेपर दिए हैं उनके तीन सर्वश्रेष्ठ पेपर का एवरेज निकाला जाएगा. और ये नंबर बचे हुए पेपर में दिए जाएंगे. जिन छात्रों ने अब तक तीन पेपर दिए हैं उनके दो सर्वश्रेष्ठ पेपर का एवरेज निकाला जाएगा. और ये नंबर बचे हुए पेपर के लिए दिए जाएंगे. जिन छात्रों ने अब तक सिर्फ दो पेपर दिए हैं उनके प्रैक्टिकल एग्जाम को मिलाकर एवरेज निकाला जाएगा. हालांकि ऐसे बहुत कम छात्र हैं. ICSE बोर्ड अपने असेसमेंट का तरीका एक हफ्ते में सार्वजनिक करेगा.

...तो 12वीं के एग्जाम भी नहीं होंगे
सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं के वैकल्पिक एग्जाम की समयसीमा निर्धारित करने की मांग को भी खारिज कर दिया. शीर्ष अदालत ने पाया कि हो सकता है कि सीबीएसई भविष्य में हालात सामान्य न होने पर 12 की परीक्षाएं न भी कराए. ऐसे में किसी भी तरह की समयसीमा अभी से नहीं दी जा सकती. ये फैसला पूरी तरह हालात पर निर्भर है. केंद्र सरकार ने भी यही तर्क दिया कि अगर भविष्य में हालात सामान्य होते हैं तो तब स्टूडेंट्स को फैसला करने का अधिकार होगा कि वो एग्जाम देना चाहते हैं या नहीं.

आईसीएससी बोर्ड का ये हाल
आईसीएएसी ने भी सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वो बाद में दसवीं के स्टूडेंट्स को एग्जाम देने का विकल्प दे सकता है. बता दें कि आईसीएससी का औसत नंबर फॉर्मूला सीबीएसई से अलग होता है.आईसीएसई आने वाले हफ़्ते में अपना औसत अंक का फॉर्मूला वेबसाइट पर उपलब्ध कराएगी.गुरुवार को हुई सुनवाई में केंद्र सरकार ने अपना पक्ष रखते हुए सीबीएसई बोर्ड की दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं को रद्द करने के फैसले के बारे में शीर्ष अदालत को जानकारी दी थी. इसके बाद कोर्ट ने टाइमलाइन और रिजल्ट की समयसीमा समेत कई बातों को स्पष्ट करने के लिए केंद्र सरकार से नया हलफनामा देने को कहा था.

सीटेट स्थगित
सीबीएसई की तर्ज पर आईसीएससी ने भी परीक्षाएं रद्द करने का फैसला किया है, हालांकि आईसीएससी बोर्ड ने भी दोबारा परीक्षा देने का विकल्प स्टूडेंट्स के सामने रखा है. वहीं सेंट्रल टीचर एंट्रेंस टेस्ट यानी सीटेट पर भी संकट के बादल मंडरा गए हैं. मानव संसाधन विकास मंत्रालय रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि सीटेट परीक्षा को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है. हालात सामान्य होने पर परीक्षा आयोजित कराई जा सकती है. सीटेट एग्जाम आगामी 5 जुलाई को होने थे.