नई दिल्‍ली । सीबीएसई बोर्ड की शेष 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के आयोजन के विषय में कहा गया है कि ये परीक्षाएं स्टूडेंट अपने ही स्कूल से देंगे, इनके लिये नये परीक्षा केंद्र नहीं बनाये जायेंगे. उक्‍त बातें एचआरडी मिनिस्टर रमेश पोखरियाल निशंक ने आज कही हैं।

उन्‍होंने कहा है कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है और लॉकडाउन को देखते हुये स्टूडेंट्स और उनके अभिभावक लगातार मिनिस्ट्री से एग्जाम सेंटर्स के बारे में जानकारी मांग रहे थे, साथ ही उनका यह भी कहना था कि स्टूडेंट की सेफ्टी और हेल्थ के लिये एग्जाम सेंटर्स के बारे में सूचना मिलना बहुत जरूरी है. ऐसे में सभी बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य को ध्‍यान में रखते हुए सरकार ने यह निर्णय लिया है।

अब जिस स्टूडेंट का रजिस्ट्रेशन जिस स्कूल से है यानी की जहां से उसने पढ़ाई की है, उसे वहीं से एग्जाम देना होगा. केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री निशंक ने दूसरी बड़ी घोषणा करते हुये कहा कि अगर सब कुछ योजना के अनुसार चलता है तो बहुत संभावना है कि सीबीएसई बोर्ड के परिणाम जुलाई महीने के अंत तक घोषित कर दिये जायें. परीक्षा से लेकर परिणामों तक के बारे में ताजा सूचना आधाकारिक वेबसाइट पर समय-समय में प्रकाशित की जाती रहेगी.

शिक्षा मंत्री ने आगे कहा कि हम जल्दी से जल्दी रिजल्ट डिक्लेयर करने की कोशिश करेंगे क्योंकि स्टूडेंट्स को आगे की स्टडीज़ की योजना बनाने या हायर क्लासेस में एडमीशन के लिये इन परिणामों की आवश्यकता पड़ती है. इसी क्रम में जो परीक्षाएं हो चुकी थी, उनकी कॉपियों का मूल्यांकन शुरू हो चुका है. कोरोना और लॉकडाउन की वजह से शिक्षक घर से ही कॉपी जांचने का कार्य कर रहे हैं.

स्कूल दोबारा खुलने की तारीख के विषय में उनका कहना था कि इस बारे में अभी कोई फैसला नहीं किया गया है. इस समय हेल्थ सर्वोपरि है. उन्‍होंने कहा कि इस बारे में निर्णय लेने को लेकर अभी कार्य चल रहा है, अत: इस विषय में भी शीघ्र ही सभी को अवगत करा दिया जाएगा.