करनाल । करनाल में प्रवासी मजदूरों को बिहार लेकर जा रही बस की ट्रक से टक्‍कर हो गई। इस टक्‍कर में 17 लोग घायल हो गए, जिनमें से 2 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। जिन्हें सरकारी हॉस्पिटल से कल्पना चावला हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया। जानकारी के अनुसार, बस में सवार होकर 60 से ज़्यादा प्रवासी मजदूर और उनके बच्चे कैथल के ढांड से अपने घर बिहार जा रहे थे। मजदूरों ने 90 हज़ार रुपये में प्राइवेट बस को किराए पर लिया था। इस हादसे में बस का आगे का हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया और ट्रक चालक मौके से फरार हो गया। यह हादसा नेशनल हाइवे पर रात 1 बजे के आस पास हुआ। प्रवासी मजदूरों ने कहा कि लॉकडाउन से पहले घर जाने में 300 रुपये लगते थे, अब एक सवारी को तकरीबन 1800 रुपये देने पड़ रहे हैं। मजदूरों का कहना है कि प्राइवेट बस वाले भी अपनी जेब गर्म करने में लगे हुए हैं। न उन्हें सामाजिक दूरी का और न उन्हें सरकार के नियम और कायदों का पालन करना है। सामाजिक दूरी के हिसाब से एक बस में जहां 30-35 लोगों के बैठने की जगह होती है, वहीं प्राइवेट बसों के मालिक मोटी कमाई करने के लिए 60 से ज़्यादा लोगों को बसों में भर देते हैं। ऐसे में ज़रूरी है कि प्रशासन ऐसे प्राइवेट बस संचालको के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे।