नई दिल्ली । बिहार में विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां तेज है। पहले चरण की 71 सीटों के लिए नामांकन पत्र भरने का काम पूरा हो चुका है। इसी के साथ सभी पार्टियों ने चुनाव प्रचार भी तेज कर दी है। हर गठबंधन अपने अपने प्रत्याशियाें को विजयी बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। जदयू और भाजपा ने चुनाव प्रचार का ब्लू प्रिंट भी बना लिया है। जदयू नेता का दावा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम नीतीश कुमार की एक साथ रैली की तैयारी पूरी हो चुकी हो चुकी है। जल्द ही इसका भी ऐलान कर दिया जाएगा कि दोनों नेता कहां-कहां एक साथ मंच साझा करेंगे। जदयू नेता का दावा है कि भाजपा और जनता दल यूनाइटेट के बीच कुछ लोग गलतफहमी फैलाना चाहते हैं। यहीं कारण है पहले गठबंधन में मनमुठाव की खबरें उड़ाई गई अब प्रधानमंत्री संग मंच साझा करने को लेकर तरह-तरह की बातें हो रही हैं। सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  की 12 साझा रैलियां तय की हैं। पार्टी के रणनीतिकार एनडीए उम्मीदवारों की एक-एक सीट पर जीत तय करने के लिए दोनों दिग्गज नेताओं का कार्यक्रम तय करने में जुटे हैं। हालांकि, अभी यह तय नहीं हुआ है कि रैली कहां-कहां होगी और कब होगी। प्रधानमंत्री की रैलियों से संबंधित कार्यक्रम को अंतिम रूप देने में भाजपा के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव, चुनाव प्रभारी व महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस जुटे रहे। पार्टी अपने सबसे बड़े नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता को पूरी तरह भुनाने की तैयारी कर रही है। 2015 के विधानसभा चुनाव की तर्ज पर एक बार फिर सबसे बड़े ब्रांड मोदी से सर्वाधिक रैलियां करवाने की तैयारी है। बता दें किक 11 अक्टूबर से भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गया से चुनावी रैली की शुरूआत की है।