प. बंगाल | केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राज्य के लोग बदलाव के इच्छुक हैं और वे राजनीतिक हिंसा, भ्रष्टाचार, फिरौती और बांग्लादेशी घुसपैठ से मुक्ति चाहते हैं। बंगाली संस्कृति और साहित्य के प्रतीक रवींद्रनाथ टैगोर से जुड़े इस शहर में आयोजित रोड शो के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए शाह ने वादा किया कि अगर भाजपा सत्ता में आई तो वह राज्य की पुरानी प्रतिष्ठा बहाल करेगी जब इसे 'सोनार बांग्ला' कहा जाता था। इस दौरान अमित शाह ने बड़ा ऐलान किया कि अगर बंगाल में उनकी सरकार बनती है, तो फिर राज्य से ही अगला मुख्यमंत्री होगा।

उन्होंने रोड शो के दौरान जुटी भारी भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, ''मैंने अपने जीवन में कई रोड शो में हिस्सा लिया और उनका आयोजन किया, लेकिन ऐसा रोड शो नहीं देखा। यह लोगों के ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ गुस्से को प्रदर्शित करता है। यह भीड़ नरेंद्र मोदी जी के विकास के एजेंडे के प्रति आस्था को प्रतिबिंबित करती है।" उन्होंने कहा कि यह इच्छा केवल राजनीति नेता बदलने की नहीं है बल्कि भ्रष्टाचार, राजनीतिक हिंसा, फिरौती और बांग्लादेशी घुसपैठ से मुक्ति की है।

डाक बंगलो से चौरास्ता तक एक किलोमीटर के रोड शो को कवर करने के लिए सड़क पर हजारों लोगों के जमावड़े के कारण ज्यादा समय लग गया और खुले हुड वाले ट्रक को आगे बढ़ने से रोक दिया गया जिसमें अमित शाह सवार थे। रोड शो के अंत में शाह ने माइक्रोफोन के जरिए लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि लोगों का यह समुद्र संकेत दे रहा है कि लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हैं और 2021 में विधानसभा चुनावों में परिवर्तन की मांग कर रहे हैं।

शाह ने कहा कि लोगों ने कांग्रेस को शासन के लिए 30 वर्ष दिए, वाम मोर्चा को तीन दशक तथा ममता बनर्जी नीत तृणमूल कांग्रेस को 10 वर्षों का समय दिया। उन्होंने कहा, “मैं आश्वस्त करता हूं कि यदि आपने भाजपा को केवल पांच वर्षों के लिए चुना, तो राज्य में विकास की बाढ़ आ जाएगी।" गृह मंत्री ने कहा कि रोड शो में लोगों के जमावड़ें ने साबित कर दिया कि उन्हें मोदी जी पर भरोसा है और ममता की सरकार का विरोध करते हैं। उन्होंने कहा कि बंगाल को भ्रष्टाचार, जबरन वसूली, कुशासन एवं भाइपो की दादागिरी को समाप्त करने के लिए एक बदलाव की जरूरत है।