शिमला। हिमाचल कांग्रेस ने पिछले दो साल दस महीनों में भाजपा सरकार के विरुद्ध जो वातावरण निर्माण किया है उसके बलबूते ही आज कांग्रेस पार्टी उपचुनावों में सशक्त नज़र आ रही है। यह कांग्रेस के लाखों कार्यकर्ताओं का संघर्ष है जिसके चलते भाजपा बैकफुट पर है और कांग्रेस फ्रंटफुट पर।हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ प्रवक्ता दीपक शर्मा ने आज कहा कि जिस तरह से कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर ने खुद आगे आ कर संगठन को नेतृत्व दिया और भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ मोर्चा खोला उसके परिणाम अब दिखाई देने लगे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने लगभग डेढ़ दर्जन मुकदमें प्रदेशाध्यक्ष पर एवम कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर बनाए लेकिन कुलदीप राठौर ने आगे आ कर भाजपा के हर बार को अपनी छाती पर सहन किया और कार्यकर्ताओं को संघर्ष के लिए प्रेरित किया। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि जिस तरह से कांग्रेस पार्टी ने भाजपा सरकार के खिलाफ निरन्तर धरने-प्रदर्शनों का आयोजन किया उससे यह अवधारणा भी गलत साबित हुई कि कांग्रेस पार्टी को विपक्ष की भूमिका निभाने नहीं आती है। कुलदीप राठौर के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने तन-मन-धन से पार्टी को मजबूती प्रदान की। इसी संघर्ष का फल है कि आज जनसमर्थन कांग्रेस पार्टी के साथ खड़ा है और भाजपा सरकार जनता का सामना करने से भाग रही है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कुलदीप राठौर ने किसी भी व्यक्तिगत एजेंडे पर न चलते हुए पार्टी के सभी नेताओं-कार्यकर्ताओं को एकजुट किया है उससे एक बात साफ है कि चारों उपचुनावों एवम आगामी 2022 के विधानसभा चुनावों में भी कांग्रेस प्रचण्ड बहुमत के साथ सरकार बनाएगी।