सीएम नीतीश के साथ पहली चुनावी जनसभा को मोदी ने किया संबोधित 

सासाराम । बिहार चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का के चुनाव प्रचार का आज से आगाज हो गया है। सासाराम में पीएम मोदी और बिहार के सीएम नीतीश कुमार की साझा पहली चुनावी जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने विपक्षी पार्टियों पर जमकर निशाना साधा और विकास की बात कही। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले ही बिहार के लोगों ने अपना संदेश दे दिया है, सभी सर्वेक्षण दर्शाते हैं कि राज्य में एनडीए की सरकार बनी रहेगी। 
उन्होंने कहा कि साथियों हाल ही में बिहार ने अपने दो सपूतों को खोया है, जिन्होंने यहां के लोगों की दशकों तक सेवा की है। मेरे करीबी मित्र और गरीबों, दलितों के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले और आखिरी समय तक मेरे साथ रहने वाले रामविलास पासवान जी को मैं श्रद्धाजंलि अर्पित करता हूं। उन्होंने आगे कहा कि बाबू रघुवंश प्रसाद सिंह जी ने भी गरीबों के उत्थान के लिए निरंतर काम किया। वो भी अब हमारे बीच नहीं हैं। मैं उन्हें भी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं बिहार के लोगों को इतनी बड़ी आपदा का डटकर मुकाबला करने के लिए बधाई देना चाहता हूं। कोरोना से बचने के लिए तेजी से जो फैसले लिए गए हैं, जिस तरह बिहार के लोगों ने काम किया, नीतीश जी के लोगों ने, एनडीए सरकार ने काम किया उसके नतीजे आज दिख रहे हैं। 
उन्होंने कहा कि दुनिया के बड़े-बड़े अमीर देशों की हालत किसी से छिपी नहीं है। अगर बिहार में तेजी से काम न हुआ होता तो ये महामारी न जाने कितने साथियों की, हमारे परिवारजनों की जान ले लेती, कितना बड़ा हाहाकार मचता, इसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2014 में केंद्र में सरकार बनने के बाद जितने समय बिहार को डबल इंजन की ताकत मिली, राज्य के विकास के लिए और ज्यादा काम हुआ है। राज्य को जो प्रधानमंत्री पैकेज मिला था, उसपर काम की रफ्तार भी तेज गति से आगे बढ़ रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश जहां संकट का समाधान करते हुए आगे बढ़ रहा है, ये लोग देश के हर संकल्प के सामने रोड़ा बनकर खड़े हैं। देश ने किसानों को बिचौलियों और दलालों से मुक्ति दिलाने का फैसला लिया तो ये बिचौलियों और दलालों के पक्ष में खुलकर मैदान में हैं। 
उन्होंने कहा कि मंडी और एमएसपी तो बहाना है, असल में दलालों और बिचौलियों को बचाना है। लोकसभा चुनाव से पहले जब किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे देने का काम शुरु हुआ था, तब इन्होंने कैसा भ्रम फैलाया था। जब राफेल विमानों को खरीदा गया, तब भी ये बिचौलियों और दलालों की भाषा बोल रहे थे।


सीएम नीतीश बोले- केंद्र के सहयोग से हो रहा है बिहार का विकास :
रैली को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ी गई, बिहार में केंद्र द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन किया। नीतीश कुमार ने कहा कि केंद्र की ओर से राशन, सिलेंडर, शौचालय की सुविधाओं को दिया गया। बिहार सरकार ने कोरोना के दौर में दस हजार करोड़ से अधिक खर्च किया है, बाहर से आए लोगों को आर्थिक मदद दी गई है। पहले 15 साल यहां क्या हाल रहा, हमारी सरकार ने मेडिकल कॉलेज खोले और अब केंद्र ने भी काफी सहयोग किया है। 
सीएम नीतीश ने कहा कि बिहार में अपराध का आंकड़ा कम कर दिया है, कानून व्यवस्था तेजी से सुधर रही है। आरजेडी पर निशाना साधते हुए नीतीश ने कहा कि जब उनकी सरकार थी तो बिहार का बजट 24 हजार करोड़ का था, अब दो लाख करोड़ से अधिक का बजट हो गया है। अब हर गांव में सोलर लाइट लगाई जाएगी, हर खेत तक पानी पहुंचाया गया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की मदद से 500-500 बेड का कोरोना अस्पताल का निर्माण किया गया है। राशनकार्डधारियों को 1-1 हजार रुपए की सहायता दी गई, जिसकी भी कोरोना के कारण मौत होती है उसे राज्य सरकार ने 4 लाख रुपए की सहायता दी है।
सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमे मौका मिला तो हमने न्याय के साथ हर वर्ग का विकास किया है और आगे भी मौका मिला तो केंद्र के सहयोग से बिहार को एक विकसित राज्य बनाया जाएगा।
उन्होंने भोजपुरी में बात करके लोगों से जुड़ने की पूरी कोशिश की। पीएम मोदी ने बिहार और नीतीश कुमार के काम की जमकर तारीफ भी की। रैली में दौरान कोराना प्रोटोकाल का पूरा ध्यान रखा गया। मंच पर दाे स्टेज बनाए गए थे। पीएम मोदी और दूसरे नेताओं के लिए अलग-अलग स्टेज था। एक मंच से पीएम मोदी ने लोगों को संबोधित किया तो दूसरे स्टेज का प्रयोग अन्य नेताओं ने किया। वहीं नीतीश और मोदी की कुर्सियों को भी दूर-दूर लगाया गया। भाषण खत्म होने के बाद पीएम मोदी ने मंच पर बैठे नेताओं का दूर से ही अभिवादन स्वीकार किया। 
आमतौर पर चुनावी रैली के बाद प्रत्याशियों का हाथ उठाकर अभिवादन किया जाता है, लेकिन इस पर कोरोना प्रोटोकाल और चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश के मुताबिक मंच पर संख्या सीमित थी। प्रत्याशियों के लिए अलग मंच था। पीएम ने बिहारी अंदाज में कहा कि बिहार के स्‍वाभिमानी और मेहनती भाई बहन आप सबे के प्रणाम। अन्‍नदाता, मेहनतकश, किसान भाई-बहन लोग के इ धान के कटोरा कहल जाये गौरवशाली धरती के हम नमन करत बानी।