भोपाल :  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की युवाओं को रोजगार देने के लिए मुद्रा योजना का दायरा व्यापक किए जाने की मंशा अनुरूप प्रदेश में जिला स्तर पर क्रेडिट आउटरीच अभियान में अधिक से अधिक हितग्राहियों को मुद्रा लोन दिए जाने के निर्देश सभी जिला उद्योग कार्यालयों को उद्योग आयुक्त श्री पी.नरहरि ने दिए हैं।

उद्योग आयुक्त श्री नरहरि ने बताया कि इसमें युवा वर्ग को स्वरोजगार के लिये प्रेरित करना मुख्य उद्देश्य है। युवा वर्ग ऋण लेकर सूक्ष्म उद्योगों के माध्यम से न केवल आजीविका कमाता है वरन् रोजगार प्रदाता बनता है, जिससे क्षेत्र की आर्थिक गतिविधियों को गति मिलती है और क्षेत्र का विकास होता है। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना केन्द्र सरकार की लोकप्रिय और व्यापक स्वरोजगार योजना है। जिसमें गैर कार्पोरेट कारोबार से आय के लिये लोगों को विनिर्माण, व्यापार और सेवा गतिविधियों के लिये 50 हजार से 10 लाख रूपए तक का ऋण दिया जाता है। इस योजना में वाणिज्यिक बैंक, आर.आर.बी, एम.एफ.आई, एन.बी.एफ.सी और लघु वित्त बैंकों द्वारा मुद्रा ऋण दिये जाते हैं।

अधिकाधिक प्रचार-प्रसार कर दायरा बढ़ाएँ

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार कर जिला, ब्लॉक स्तर पर बैंकों द्वारा 16 अक्टूबर से 15 नवम्बर तक क्रेडिट आउटरीच कार्यक्रमों में मुद्रा ऋण के प्रकरण बनाए जाएँगे। सभी प्रमुख जिला, ब्लॉक स्तर के कार्यालयों में योजना की जानकारी का बैनर, होर्डिंग प्रदर्शित किये जाएंगे। योजना के प्रचार-प्रसार के लिये अग्रणी जिला प्रबंधक द्वारा बैंकों के समन्वय से जिला, ब्लॉक स्तर पर प्रतिमाह कम में कम एक जागरूकता शिविर का आयोजन किया जाएगा। परम्परागत मीडिया एवं सोशल मीडिया के माध्यम से भी योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाएगा। सोशल मीडिया पर लाभांवित हितग्राहियों की सफलता की कहानियों का प्रसारण कर अन्य हितग्राहियों को स्व-रोजगार के लिये प्रेरित किया जाएगा।

जिला स्तर के विभिन्न शासकीय कार्यक्रमों, समारोह आदि में मुद्रा योजना का विशेष रूप से प्रचार-प्रसार किया जाएगा और मुख्य अतिथि, जन-प्रतिनिधि से हितग्राहियों को ऋण वितरण कराया जाएगा। योजना की संपूर्ण मॉनीटरिंग जिला कलेक्टर द्वारा की जाएगी।