भोपाल। राजधानी के बैरसिया थाना इलाके में पॉच दिन पहले विवाहिता द्वारा फांसी लगाकर खुदकुशी किए जाने के मामले में पुलिस ने जांच के आधार पर मृतका के देवर, सास और ससुर के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया है। बताया गया है, कि विवाहिता ने शादी के बाद दो बच्चो को जन्म दिया था, लेकिन दोनों ही जन्म से कमजोर थे, और बीमारी के कारण उनकी मौत भी हो गई थी। सास, ससुर और देवर बच्चों की मौत को लेकर महिला के साथ तानाकशी कर उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे, जिससे तंग आकर विवाहिता ने खुदकुशी की थी।  पुलिस ने मृतका के परिवार वालो के ब्यानो और अन्य बिंदुओं की जांच के आधार पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 26 वर्षीय संजू ठाकुर पति बलवीर बेरसिया इलाके में स्थित ग्राम रोजियाई में रहती थी। बीती 18 जनवरी को देर शाम संजू ने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। सूचना मिलने पर मर्ग कायम कर पुलिस ने खुदकुशी के कारणों की छानबीन शुरू की। जांच के दौरान सामने आया कि शादी के बाद मृतका के दो बच्चे हुए थे, लेकिन दोनों बच्चे जन्म से ही कमजोर थे, और बाद में बीमारी के कारण दोनों बच्चों की मौत हो गई थी। बच्चों की मौत को लेकर देवर जगदीश ठाकुर, सास उमेदी बाई और ससुर मालम सिंह मृतका संजू को बच्चों की मौत का जिम्मेदार बताते हुए रोजाना ताने मारते थे। साथ ही आरोपी विवाहिता से यह भी कहते थे, कि वह बहुत कमजोर है, और कभी बच्चे को जन्म नहीं दे सकेगी। आरोपियों की तानों से परेशान होकर मृतका मानसिक तनाव मे रहने लगी थी। और इसी डिप्रेशन में आकर उसने आत्महत्या कर ली। नवविवाहिता के परिवार वालो ने भी पुलिस को दिये अपने ब्यानो मे आरोपी देवर जगदीश ठाकुर, सास उमेदी बाई और ससुर मालम सिंह पर प्रताडिम करने के आरोप लगाये है। पुलिस का कहना है, कि फिलहाल आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है, आगे की जांच के आधार पर जल्दी आरोपी सास, ससुर और देवर को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।