भोपाल । राजधानी में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए किसी के लिए भी शादी-विवाह की अनुमति जारी नहीं की जाएगी। ऐसे में अकेले अप्रैल माह में होने वाली सैकड़ों शादियों पर संकट खड़ा हो गया है। अब इन लोगों को शादी की तारीख आगे बढ़ानी पड़ेगी। इस संदर्भ में कलेक्टर अविनाश लवानिया ने कहा कि संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए ये फैसला किया गया है। लोगों से अपील की गई है कि पहले संक्रमण की चेन तोड़ना जरूरी है। इसके लिए जब तक जरूरी न हो, घरों से बाहर न निकलें। कोरोना को लेकर जारी की जा रही गाइडलाइन का पालन करें। भोपाल की तरह इंदौर में भी जिला कलेक्‍टर ने लोगों से कुछ ऐसी ही अपील की है। यानी वहां भी अप्रैल माह में शादी की शहनाइयां नहीं गूंजेंगी। गौरतलब है कि विवाह के शुभ मुहूर्तों की शुरूआत 22 अप्रैल से होने जा रही है। इस साल गुरु और शुक्र अस्त होने के कारण मांगलिक कार्यों पर विराम लगा हुआ था। जनवरी की शुरूआत में गुरु अस्त चल रहे थे, गुरु का उदय 14 फरवरी को हो गया था, लेकिन इसके पहले ही नौ फरवरी से शुक्र अस्त हो गए थे। इसके कारण मांगलिक कार्य नहीं हो रहे थे। अब रविवार से शुक्र का उदय हो गया है, लेकिन प्रशासन ने वैवाहिक अनुमतियों पर रोक लगा दी है। फिलहाल ये रोक अप्रैल माह तक ही है। मई में भी 13 दिन विवाह के मुहूर्त हैं। इसी प्रकार जुलाई में भी मांगलिक कार्यों के नौ दिन शुभ मुहूर्त रहेंगे।