बलरामपुर. उत्तर प्रदेश के जनपद बलरामपुर (Balrampur) में भारी संख्या में अन्य प्रदेशों से लोग वापस आ रहे है. आंकड़ों के मुताबिक जिले में लगभग 60,000 से ज्यादा प्रवासियों (Migrants) की आमद हो चुकी है और यह संख्या अभी भी बढ़ती ही जा रही है. लगातार इस प्रकार की सूचनाएं प्राप्त हो रही थीं कि बहुत से लोग, जिन्हें कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए होम क्वारेंटाइन के लिए मेडिकल टीम द्वारा निर्देशित किया गया था, वो अपने घरों में न रहकर इधर-उधर घूमते पाए जा रहे हैं. ऐसे लोगों की इस तरह की गतिविधियों के कारण कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा बहुत बढ़ गया है.

13 थानों में दर्ज हुए कुल 56 केस

एसपी देवरंजन वर्मा ने बताया कि पुलिस द्वारा लगातार ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी जा रही थी, जो होम क्वारेंटाइन का उल्लंघन कर रहे थे. एसपी ने बताया कि ऐसे गैर जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जनपद के 13 थानों में 56 अभियोग पंजीकृत किए गए हैं. भारतीय दंड संहिता, महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम की सुसंगत धाराओं में कुल 1931 लोगों को नामजद करके पुलिस ने कठोर कार्रवाई की है.

पुलिस ने दी है चेतावनी

इसके साथ ही पुलिस की ओर से यह चेतावनी भी जारी की गई है कि हाउस क्वारेंटाइन का उल्लंघन करने वालों को चिन्हित करके उनके खिलाफ नियमित रूप से कठोर कार्यवाही की जाएगी.

सिर्फ 4 दिन में सामने आए 30 नए कोरोना संक्रमित

गौरतलब है कि प्रवासियों के लगातार आगमन से जिले में कोविड-19 के संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है, जिसे देखते हुए बाहर से आने वाले सभी लोगों को होम क्वॉरेंटाइन मैं रहने की सख्त हिदायत दी जा रही है. प्रवासियों के आगमन के साथ ही जिले में कोरोना का प्रकोप भी तेजी से फैला है. मात्र 4 दिनों में 30 नए कोरोना मरीज पाए गए हैं, जिन्हें इलाज के लिए एल-1 जिला मेमोरियल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है.

सभी संक्रमित प्रवासी

जिले में अब तक कुल 32 कोरोना पाजिटिव केस मिले हैं. इनमें से एक युवक ठीक होकर अपने घर जा चुका है. जिले में अभी भी कोराना संक्रमित मरीजों की संख्या 31 है. अब तक पाए गए सभी 32 कोरोना संक्रमित मरीज प्रवासी श्रमिक हैं, जो लॉकडाउन के बाद देश के विभिन्न महानगरों से वापस आए हैं. इनमें एक ही परिवार के 6 संक्रमित सदस्य भी शामिल है.

डीएम बोले...

डीएम कृष्णा करुणेश के मुताबिक सभी आने वाले प्रवासियों को उनके घर में ही क्वारंटाइन करके उनपर गहन निगरानी रखी जा रही है. डीएम ने बताया कि समुदाय में कोविड-19 के संक्रमण का प्रसार न होने पाए इसके लिए ग्राम पंचायत स्तर सभी स्वास्थ्य कर्मियों, राजस्व कर्मियों और ग्राम प्रधानों को लगाया गया है. इसके साथ ही आम लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है.