लखनऊ. अयोध्या (Ayodhya) के बाबरी विध्वंस केस (Babri Demolition Case) में भगोड़ा घोषित आरोपी ओपी पांडे (OP Pandey) गुरुवार को सीबीआई स्पेशल कोर्ट (CBI Special Court) में हाजिर हो गया. ओपी पांडेय ने कोर्ट को बताया कि बरसों पहले वह घर छोड़ दिया था. राम मंदिर निर्माण के लिए वह ऋषिकेष (Rishikesh) में रहकर अनुष्ठान कर रहा था. उसने ये भी बताया कि 5 अगस्त को राम मंदिर भूमि पूजन के लिए वह अयोध्या आया था. जब उसे वारंट की जानकारी हुई तो सीबीआई कोर्ट में हाज़िर हुआ. कोर्ट में ओपी पांडे के बयान दर्ज किए गए. अदालत में उसे कस्टडी में ले लिया गया, बाद में उसे निजी मुचलके पर रिहा भी कर दिया गया.

कल्याण सिंह की तरफ से पेश किए गए बचाव के कागजात
इस बीच मामले ने कल्याण सिंह की तरफ से अपने बचाव में कागज़ात पेश किए गए. अदालत ने उसे रिकॉर्ड पर लेते हुए अन्य अभियुक्तों को भी 14 अगस्त को अपने बचाव में साक्ष्य प्रस्तुत करने को कहा है. कोर्ट ने अन्य आरोपियों को बचाव के सबूत पेश करने का आदेश दिया है.

ओपी पांडे ने खुद को बताया बेकसूर
अपने बयान में ओपी पांडे ने खुद को बेकसूर बताते हुए कहा कि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है. बता दें ओपी पांडे के बयान होने के बाद इस केस में सभी 32 अभियुक्तों के बयान दर्ज हो चुके हैं. बता दें ओपी पांडे के फरार होने के चलते कोर्ट ने उसकी फाइल बाकी सभी अभियुक्तों की फाइल से अलग कर दी थी, अब उसे अन्य अभियुक्तों की फाइल से जोड़ दिया गया है.

सीबीआई स्पेशल कोर्ट ने शुरू की थी संपत्ति कुर्क करने की प्रक्रिया
जानकारी के अनुसार सीबीआई स्पेशल कोर्ट की तरफ से ओपी पांडे के खिलाफ 28 जुलाई को गैर जमानती वारंट (NBW) जारी किया गया था. इसके बाद अदालत ने पांडे को भगोड़ा घोषित करते हुए उनकी संपत्ति कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू की थी.