सिडनी । कोरोना महामारी के बाद जब ऑस्ट्रेलिया में क्रिकेट फिर से शुरु होगा तो गेंद को चमकाने के लिए लार या पसीने के इस्तेमाल की इजाजत नहीं होगी। संक्रमण रोकने के लिए ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने जो खाका तैयार किया उसमें दिये गये सुझाव में यह भी शामिल है। ऑस्ट्रेलियाई खेल संस्थान (एआईएस) ने चिकित्सा विशेषज्ञों, खेल निकायों के अलाव संघीय और राज्य सरकारों के परामर्श से ने दिशानिर्देश जारी किये है , जिनमें गेंद को चमकाने के लिए पसीना और लार के उपयोग पर प्रतिबंध की बात कही गई है। इस दिशा-निर्देश में खेलों की तीन चरण (ए, बी और सी) में वापसी का जिक्र है। मौजूदा समय में खेलों पर जो रोक है वह ‘ए’ स्तर की है जिसमें व्यक्तिगत अभ्यास के अलावा हर चीज पर प्रतिबंध है। एक सप्ताह से कुछ अधिक समय के बाद प्रतिबधों को बी स्तर का कर दिया जाएगा जहां सीमित संख्या में अभ्यास की इजाजत होगी। इस दौरान गेंद पर लार या पसीने के इस्तेमाल पर रोक जारी रहेगी। तीसरी और आखिरी चरण (सी) में पूर्ण अभ्यास की अनुमति होगी पर इसमें भी गेंद पर लार या पसीने के इस्तेमाल पर रोक जारी रहेगी। दिशा-निर्देश में कोविड-19 बीमारी के किसी भी लक्षण वाले खिलाड़ी को अभ्यास से दूर रहने की सलाह दी गयी है। वहीं माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में आईसीसी भी संक्रमण के खतरे को कम करने के लिए गेंद को चमकाने के लिए लार का उपयोग प्रतिबंधित कर सकता है। आईसीसी गेंद को चमकाने के लिए अंपायरों की देखरेख में कृत्रिम पदार्थों के उपयोग की अनुमति दे सकता है हालांकि कई पूर्व क्रिकेटरों का मानना है कि ऐसा करना सही नहीं होगा।