भिलाई । छत्तीसगढ़ प्रोडयूसर सिने एसोसिएशन द्वारा नगर के अपना केसरी लॉज पॉवर हाउस में दुर्ग भिलाई के छॉलीवुड से जुड़े सभी लोगों की बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में छॉलीवुड के जाने माने निर्देशक मनोज वर्मा, छत्तीसगढ सीने एवं टेलिविजन प्रोडयूसर एसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष जैन, छॉलीवुड को लगातार सुपरहीट देने वाले निर्देशक सतीश जैन, निर्माता निर्देशक मोहन सुंदरानी, एक्टर एवं डायरेक्टर प्रकाश अवस्थी, निर्माता रॉकी दासवानी,श्रीमती गायत्री केशरवानी, मोहित साहू,अभिनेत्री नैनी तिवारी, योग मिश्रा, अनुमोदराज वैद्य प्रमुख रूप से उपस्थित थे।
    इस बैठक में यह निर्णय लिया गया कि मल्टीप्लेक्स में छत्तीसगढ़ी फिल्मों को नही लगाये जाने के विरोध में आगामी 5 जून को रायपुर के सभी मल्टीप्लेक्स में हल्ला बोल कार्यक्रम के तहत उस दिन कोई भी फिल्म नही चलने दिया जायेगा। इसके लिए उस दिन शांतिपूर्वक आंदोलन किया जायेगा। छत्तीसगढ़ प्रोडयूसर सिने एसोसिएशन द्वारा दर्शकों से अपील की गई कि वे 5 जून को रायपुर के सभी मल्टीप्लेक्स में वे फिल्म देखने न जाये और केवल इस दिन फिल्म देखने का विरोध कर मल्टीप्लेक्स में भी छत्तीसगढ़ी फिल्म को लगवाये जाने के इस आंदोलन में हमारा सहयोग करें।   बैठक को संबोधित करते हुए छत्तीसगढ सीने एवं टेलिविजन प्रोडयूसर एसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष जैन ने कहा कि मल्टीप्लेक्स वाले यहां बिजनेस करते है और यहीं का खाते है और हमारे छत्तीसगढ़ी फिल्म और कल्चरल का मजाक उड़ाते हैं, वे कहते है कि छत्तीसगढ़ फिल्म हमारे स्टेटस के लायक नही है। उन्होंने आगे कहा कि मल्टीप्लेक्स को मंहगा किया गया है, जहां एक व्यक्ति से डेढ सौ रूपये टिकिट का लिया जाता है, और 2 सौ रूपये पॉपकार्न का लिया जाता है। ऐसे में आम आदमी के परिवार को यहां फिल्म देखने से रोका जा रहा है, छत्तीसगढ़ी फिल्म के दर्शक आम आदमी ही होते है। छत्तीसगढ के लोग भी पूरे परिवार के साथ बैठ कर एक साथ यहां छत्तीसगढी फिल्म देखना चाहते है। राज्य सरकार को भी चाहिए कि वे यहां नियम बनाकर मल्टीपलेक्स सहित सभी टॉकीजों में महाराष्ट्र और अन्य दिगर प्रदेशों की तरह छत्तीसगढ़ी फिल्मों को दिखाना अनिवार्य करें। आगामी 5 जून को सलमान खान अभिनीत फिल्म भारत रिलीज हो रही है। हम फिल्म भारत का विरोध नही कर रहे है, हम उनके रवैया का विरोध कर यह दिखाना चाहते है कि उनको एक दिन में कितना नुकसान हो रहा है, हम यहां 20 साल से फिल्में बना रहे है, हमें कितना नुकसान हो रहा होगा। 
    वही प्रसिद्ध निर्देशक मनोज वर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि मल्टीप्लेक्स वाले कहते हैं कि छत्तीसगढियों और छत्तीसगढी फिल्मों का कोई स्टेटस नही है और छत्तीसगढी दर्शकों की औकात नही है कि वे मल्टीप्लेक्स में आकर फिल्म देख सकें, इस तरह छत्तीसगढी दर्शकों और छत्तीसगढी फिल्मों का अपमान किया जा रहा है।   इसके विरोध में हम सभी को एकजुट होकर आगामी 5 जून को रायपुर के मल्टीप्लेक्स में फिल्म लगने का विरोध करने धरना प्रदर्शन करना है। 
    छॉलीवुड को लगातार सुपरहीट फिल्म देने वाले निर्देशक सतीश जैन ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि मैं छत्तीसगढ़ी फिल्म को बढावा देने में सफल रहा हूं। मैने कई सुपरही फिल्मे दी है जो मल्टीप्लेक्स के लायक ही बनी है और सामान्य टॉकीजों में भी मेरी फिल्मे बहुत ही अच्छा बिजनेस की है। उसके बाद भी आज मुझे टॉकीजों में फिल्म लगाने के लिए स्ट्रगल करना पड़ता है। मल्टीप्लेक्स वाले मेरी फिल्म को स्तरहीन बताकर लगाने से इंकार कर देते हैं। इस तरह मुझे आज भी अच्छी फिल्मे बनाने के बाद भी स्ट्रगल करना पड़ता है जब हम जैसे पुराने निर्देशकों को टॉकीजों में फिल्म लगाने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है तो नये  निर्देशकों को टॉकीज में फिल्म लगाने के लिए कितना परेशान होना पड़ता है, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है।
    बैठक में प्रोडयूसर नटराज बंछोर सहित दुर्ग भिलाई के सैकड़ों कलाकार सहित छॉलीवुड से जुड़े लोग उपस्थित थे। उपस्थित सभी लोगों ने 5 जून को रायपुर के मल्टीप्लेक्स में छत्तीसगढ़ी फिल्म नही लगाने के विरोध में हल्ला बोल धरना प्रदर्शन में पूरे एकजुटता के साथ शामिल होने की बात कही। उस दिन दुर्ग भिलाई में रहने वाले सभी छॉलीवुड के लोग इस धरना प्रदर्शन में शामिल होने रायपुर पहुंचंगे।