सेना के हवाले उम्मीदों की डोर:निवाड़ी के पास बोरवेल में गिरा बच्चा; आर्मी की रेस्क्यू टीम ने 30 फीट तक खुदाई की, आ रही है बच्चे के रोने की आवाज
 

बोरवेल में गिरा बालक प्रहलाद कुशवाह।
चार जेसीबी की मदद से की जा रही खुदाई, सेना ने संभाला मोर्चा

बुधवार सुबह निवाड़ी जिले के एक गांव में चार साल का बालक 200 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया। मासूम की सांसों की डोर अटकी हुई है। बोर में गिरे बच्चे को रेस्क्यू करने के लिए बबीना से आर्मी की रेस्क्यू टीम पहुंच गई। बोरवेल में अंदर कैमरा भेज कर बच्चे की स्थिति जानने की कोशिश की जा रही है। जेसीबी मशीनों की मदद से लगभग 30 फीट की खुदाई की जा चुकी है। मौके पर मौजूद अधिकारियों ने बताया कि अभी बच्चे की रोने की आवाज रुक-रुक कर आ रही है, वही उसे लगातार ऑक्सीजन सप्लाई भी की जा रही है।

बोरवेल में गिरे बच्चे की स्थिति जानने का प्रयास करते सेना और पुलिस के अधिकारी।

निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर थाना क्षेत्र के शैतपुरा गांव में पांच साल का बालक प्रहलाद कुशवाह अपने ही खेत के बोरवेल में गिर गया। बताया जाता है कि बोरवेल ढंका हुआ था और उसे बालक ने ही खोला और गिर गया। बोरवेल तो 200 फीट गहरा है लेकिन बालक 100 फीट पर होने का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि सेना ने पहुंचने के बाद बच्चे के 50-60 फीट पर होने का अनुमान लगाया है। ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ ही डॉक्टर्स की टीम भी मौके पर है। घटना की जानकारी मिलते ही प्रशासनिक अमला मौके पर पहुंच गया। कलेक्टर आशीष भार्गव, एसपी वाहिनी सिंह मौके पर मौजूद है। रेस्क्यू के लिए सेना की टीम पहुंच गई है।