नई दिल्ली | केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के दिवंगत नेता अरुण जेटली की प्रतिमा का अनावरण किया। इस मौके पर अमित शाह ने अपने और अरुण जेटली के बीच के संबंधों के बारे में भी बताया। उन्होंने जेटली को अपना बड़ा भाई बताते हुए कहा कि उन्होंने हर संकट के समय में मेरी मदद की।
फिरोजशाह कोटला मैदान में संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा, ''अरुण जेटली मुझसे उम्र में बड़े थे। जब भी मुझपर कोई संकट आया तो लोगों ने मेरी मदद की। लेकिन, अरुण जेटली ने हर समय एक बड़े भाई की तरह मेरे साथ रहे और किसी भी संकट से बाहर निकाला।'' शाह ने आगे कहा कि जेटली ने एक मजबूत आईपीएल को खड़ा किया। हजारों युवाओं को क्रिकेट के लिए तैयार किया। उनके पास सभी सवालों के सटीक जवाब थे।
केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने जेटली की प्रतिमा का अनावरण करते हुए कहा कि एक होते हैं जो खेलते हैं और दूसरे लोग वे होते हैं, जो क्रिकेट खेलने का माहौल बनाते हैं। उनका योगदान भी बहुत होता है। इससे पहले, शाह ने जेटली की जयंती पर उन्हें याद करते हुए ट्वीट किया था कि जेटली असाधारण सांसद थे, जिनके ज्ञान और अंतर्दृष्‍टि के सानी बहुत कम हैं। उन्होंने कहा, ''उन्होंने देश की राजनीति में चिरकाल तक रहने वाला योगदान दिया और पूरे उत्साह एवं समर्पण के साथ देश की सेवा की।''

पीएम समेत कई बीजेपी नेताओं ने जेटली को किया याद
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरुण जेटली को उनकी जयंती पर सोमवार को श्रद्धांजलि दी और कहा कि उनका ओजस्वी व्यक्तित्व, बुद्धिमता, कानूनी समझ और हाजिरजवाबी को वे सभी लोग याद करते हैं, जो उनके काफी निकट थे। अन्य बीजेपी नेताओं ने भी पूर्व वित्त मंत्री को याद किया। जेटली कई साल तक पार्टी की सबसे मुखर आवाज वाले नेताओं में शामिल रहे और उन्हें सबसे सूक्ष्म राजनीतिक समझ वाले नेताओं में से एक माना जाता था। जेटली का जन्म 1952 में हुआ था। उनका पिछले साल अगस्त में निधन हो गया था। वहीं, बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने कहा कि जेटली को एक मुखर वक्ता एवं सक्षम रणनीतिकार के तौर पर याद किया जाएगा।