नई दिल्ली जैसे ही नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस की कमान संभाली, पार्टी के सूत्रों ने कहा कि अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राज्य के कांग्रेस सांसदों से बात की। कहा जाता है कि सिद्धू को राज्य इकाई में शीर्ष पद पर बिठाने से पहले सोनिया गांधी ने उनकी शिकायतें सुनीं। सांसदों, जिनमें मनीष तिवारी, प्रताप सिंह बाजवा, रवनीत बिट्टू, गुरजीत औजला और अमर सिंह शामिल थे, ने पार्टी प्रमुख से राज्य के वरिष्ठ नेताओं को प्राथमिकता देने का अनुरोध किया था। वरिष्ठ नेताओं द्वारा पार्टी आलाकमान से मिलने का समय मांगने के के बाद टेलीफोन पर बातचीत हुई।


कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रविवार को घोषणा की थी कि क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू सुनील जाखड़ की जगह पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर काम करेंगे। इसके साथ चार कार्यकारी अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई।

इस बीच, राज्य इकाई के भीतर घमासान गहराते ही राज्य के लोकसभा और राज्यसभा सांसदों ने राज्यसभा सांसद प्रताप सिंह बाजवा के आवास पर मुलाकात की। पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राणा केपी सिंह और कैबिनेट मंत्री राणा गुरमीत सोढ़ी ने भी असंतोष के संकेतों के बीच शनिवार शाम को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से उनके आवास पर मुलाकात की थी।

समझा जाता है कि मुख्यमंत्री ने सोनिया गांधी से कहा था कि वह सिद्धू से तब तक नहीं मिलेंगे जब तक कि वह हाल के दिनों में अपने ऊपर हुए हमलों के लिए सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांग लेते।

सीएम और सिद्धू के बीच चल रही खींचतान सोमवार को भी दिखाई दी, जब अमरिंदर ने 21 जुलाई को नवनियुक्त पीसीसीसी प्रमुख को छोड़कर सभी कांग्रेस विधायकों और सांसदों को दोपहर के भोजन के लिए आमंत्रित किया। हालांकि अमरिंदर सिंह के मीडिया सहाकार ने इस खबर का खंडन किया। इससे पहले कांग्रेस के दस विधायक अमरिंदर सिंह के समर्थन में सामने आए थे और पार्टी आलाकमान से पंजाब के मुख्यमंत्री को निराश नहीं करने का आग्रह किया था।


सिद्धू अब आगामी विधानसभा चुनावों में पार्टी को चलाने के लिए जिम्मेदार होंगे क्योंकि कांग्रेस राज्य में सत्ता बनाए रखने की कोशिश कर रही है।