काबुल । अफगानिस्तान में तालिबान नेतृत्व वाली नई सरकार बेशक मादक पदार्थों के व्यापार पर पूर्ण प्रतिबंध लगाकर देश को मादक पदार्थ मुक्त बनाने की बात कह रही हो, लेकिन हकीकत इसके बिल्कुल विपरीत है। सच्चाई यह है कि विदेशी सहायता रुकने, बेरोजगारी, कीमतों में वृद्धि, भुखमरी और सूखे के कारण देश में उत्पन्न मानवीय संकट के कारण अफगानिस्तान दुनिया में अफीम का सबसे बड़ा अवैध आपूर्तिकर्ता बना हुआ है और इसके रुकने की कोई संभावना नहीं है। यूएन ऑफिस ऑफ ड्रग्स एंड क्राइम्स के अनुसार तालिबान ने अपनी आय के मुख्य स्रोतों में से एक के रूप में अफगान अफीम व्यापार पर भरोसा किया है। अधिक उत्पादन के साथ एक सस्ती और अधिक आकर्षक कीमत के साथ ड्रग्स उपलब्ध होती है,इसकारण इसकी व्यापक पहुंच है।ये सबसे अच्छे क्षण हैं, जिनमें ये अवैध समूह अपने व्यवसायों का विस्तार करने के लिए खुद को उस स्थिति में लाते हैं।
दिलचस्प बात यह है कि अमेरिका और अन्य देशों ने भी अफगानिस्तान के अवैध ड्रग कारोबार से उत्पन्न खतरों को नजरअंदाज करने का विकल्प चुना है, क्योंकि उन्होंने शायद ही कभी इसका उल्लेख किया हो।यूएनओडीसी के अनुमान के अनुसार, वैश्विक अफीम और हेरोइन की आपूर्ति का 80 प्रतिशत से अधिक अफगानिस्तान से आ रहा है। अमेरिका ने पिछले 15 वर्षों में संदिग्ध प्रयोगशालाओं पर लक्षित हवाई हमलों के माध्यम से अफीम और हेरोइन व्यापार के माध्यम से मुनाफाखोरी से तालिबान पर पकड़ मजबूत करने के अपने प्रयास में 8 अरब डॉलर से अधिक खर्च किए हैं। अफगानिस्तान में नशीले पदार्थो के व्यापार के फलते-फूलते उद्योग के संबंध में अनुमान है कि यहां प्रति वर्ष लगभग 6.6 अरब डॉलर का कारोबार हो रहा है। इसके उत्पादन को अफ्रीका, यूरोप, कनाडा, रूस, मध्य पूर्व और एशिया के अन्य हिस्सों सहित कई देशों में तस्करी करके निर्यात किया जाता है। अफगानिस्तान में ड्रग्स के अवैध व्यापार और बिक्री में वृद्धि का मुख्य कारण युद्ध के दौरान व्यापक विनाश है, जिसके कारण लाखों लोग अपने घरों से विस्थापित हो गए हैं। विदेशी सहायता में कटौती ने आर्थिक और मानवीय संकट को बढ़ा दिया है, जिससे अधिकांश अफगानों के पास जीवित रहने के लिए नशीले पदार्थों के व्यापार को अपनाने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है।