कोलकाता । कोरोना आंकड़ों में हेरफेर और केंद्र को लिखी एक चिट्ठी के जरिए सारी गलतियां उजागर कर देने वाले राज्य के स्वास्थ्य सचिव विवेक कुमार का तबादला कर दिया गया है। राज्य सरकार ने राज्य परिवहन विभाग के सचिव नारायण स्वरूप निगम को राज्य का नया स्वास्थ्य सचिव नियुक्त किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के सचिव आईएएस विवेक कुमार को पर्यावरण विभाग के सचिव की जिम्मेदारी दी गई है।

पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में भारी हेरफेर होता रहा है। राज्य और केंद्र सरकार के आंकड़ों में लगातार विषमता उजागर होती रही है। गत 30 अप्रैल को पश्चिम बंगाल सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जो हेल्थ बुलेटिन जारी किया गया था उसमें कोरोना पोजिटिव लोगों की संख्या 472 बताई गई थी। लेकिन उसी दिन राज्य के स्वास्थ्य सचिव विवेक कुमार ने केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव को एक चिट्ठी लिखी थी जिसमें इस बात का खुलासा किया था कि बंगाल में कुल 931 लोग कोरोना की चपेट में है। इसकी वजह से कोरोना आंकड़े छिपाने का आरोप झेल रही पश्चिम बंगाल सरकार के लिये अप्रिय स्थिति उत्पन्न हो गयी थी।

राज्य सरकार को इसकी वजह से फजीहत का सामना करना पड़ा था और विपक्ष चौतरफा हमलावर हो गया था। सोशल साइट पर लगातार ममता सरकार के आंकड़ों में हेरफेर के बारे में चर्चा जोरों पर थी। यहां तक कि अमेरिका के अखबारों में भी पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा कोरोना आंकड़ों की विषमता का जिक्र किया गया था। इसके बाद आशंका व्यक्त की जा रही थी कि विवेक कुमार के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। अब आखिरकार स्वास्थ्य सचिव के पद से उन्हें हटा दिया गया है। हालांकि सचिवालय के विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि कोरोना संक्रमण के वास्तविक आंकड़े केंद्र सरकार को बताने की वजह से उनका तबादला कर दिया गया है।