मंडला. मध्य प्रदेश के मंडला जिले में हुए हादसे में 18 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद दो शव निकाल लिए गए. हादसा शनिवार रात करीब 10.30 बजे उस वक्त हुआ जब दो लोग कार से बरगी बांध के बबैहा नाले पर बन रहे पुल से गिर गए. चूंकी नाले की गहराई 40 फीट है और हादसे के वक्त करीब 30 फीट तक पानी भरा था, इस वजह से उनकी कार और शव मिलने में काफी वक्त लगा.जानकारी के मुताबिक विष्णु परधान और आदर्श मांडवे कार MP 20 CJ 4999 से मंडला की ओर जा रहे थे. इस बीच जैसे ही वे जबलपुर-मंडला नेशनल हाईवे क्रॉस कर रहे थे तो उन्हें किसी तरह का साइन बोर्ड नहीं दिखा और उनकी कार सीधे बबैहा नाले में जा गिरी. इस हादसे को लोगों ने देखा और तुरंत पुलिस को इसकी सूचना दी. पुलिस मौके पर पहुंची और SDRF की टीम भी बुला ली. इसके बाद गोताखोरों और आसपास के रहवासियों की मदद से नाले में तलाशी अभियान शुरू किया गया.

रात 3 बजे तक शवों को तलाश करते रहे लोग और प्रशासन
लोग रात 3 बजे तक तलाशी करते रहे और फिर रेस्क्यू बंद कर दिया गया. इसके बाद रविवार सुबह 6 बजे दोबारा रेस्क्यू शुरू किया गया. पानी 25 से 30 फीट भरा होने के कारण रेस्क्यू में परेशानी आई. 11 बजे जाकर कार नाले में मिली. दोपहर 12:30 बजे कार को बाहर निकाला गया. लेकिन कार में कोई नहीं मिला. घटना की सूचना के बाद दोपहर एक बजे के करीब परिजन मंडला के नारायणगंज के पदमी गांव से मौके पर पहुंचे. उन्होंने बताया कि कार का मालिक विष्णु परधान (वरकड़े) है और उसके साथ दूसरा युवक आदर्श मांडवे है.

इस तरह मिल गए दोनों शव
इसके बाद बचाव दल नाले में दोनों की तलाश शुरू कर दी. दोपहर 3 बजे के बाद एक का शव मिला और फिर कुछ देर बाद दूसरा शव भी मिल गया. इसके डेढ़ घंटे बाद दूसरा शव भी मिल गया. मौके पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा सहित पुलिस बल, बचाव कर्मी एवं बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक मौजूद थे. ग्रामीणों ने बताया कि पिछले 6 वर्षों से निर्माणाधीन मंडला-जबलपुर हाईवे पर लगातार हादसे हो रहे हैं.