मध्य प्रदेश के सभी सरकारी और अनुदान प्राप्त कॉलेजों में ग्रेजुएशन (यूजी) प्रोग्राम में ऑनलाइन दाखिले की प्रक्रिया चल रही है। पहले चरण में अब तक 412575 छात्र पंजीयन करा चुके हैं। इनमें से सिर्फ 102138 ने एडमिशन लिया। ऑन लाइन प्रवेश के लिए फीस भरने का आज (8 सितंबर, मंगलवार) अंतिम दिन है। पहले चरण के लिए 20 अगस्त 2020 तक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा दी गई थी।

उच्च शिक्षा विभाग की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार यूजी में स्टूडेंट्स को ई-प्रवेश के माध्यम से दाखिला दिया जा रहा है। अब तक 367883 छात्र विकल्प दे चुके हैं, जबकि इनमें से 337850 दस्तावेजों का सत्यापन भी करा चुके हैं। 226078 छात्रों को दाखिला दिया जा चुका है। दाखिला ले चुके छात्रों को ई-प्रवेश पोर्टल के माध्यम से फीस जमा करना है। इसमें छात्र को 1 हजार रुपए ऑन लाइन जमा करना है। एडमिशन की शेष फीस संबंधित कॉलेजों द्वारा किश्तों में ली जाएगी।

इन्हें मिलेगा फ्री एडमिशन
मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना और मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना के तहत छात्र फीस भरने के दौरान इसका चयन कर इसका लाभ ले सकते हैं। उन्हें इसके तहत किसी भी तरह की फीस नहीं भरने होगी। हालांकि इसके बाद उन्हें जरूरी दस्तावेज उपलब्ध कराना होंगे।

सिर्फ 50 छात्रों को बुलाया जा रहा
कोविड-19 संक्रमण को देखते हुए डॉक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन के लिए सेंटर की संख्या बढ़ाई गई है। जिससे सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह पालन किया जा सके। इस दौरान छात्र-छात्राओं को मास्क पहनना और सैनिटाइजर लाना अनिवार्य है। एक सेंटर में एक दिन में सिर्फ 50 छात्रों को ही बुलाया जा रहा है।

लेट हो गया शैक्षणिक सत्र
इस बार कोरोनावायरस की वजह से शैक्षणिक सत्र लेट हो रहा है। पहले मई-जून में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो जाती थी। इसके बाद जुलाई में प्रवेश प्रक्रिया पूरी करके नए सत्र की क्लास शुरू हो जाती थीं। इधर, यूजीसी के निर्देशानुसार सितंबर में फाइनल ईयर की परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी।