मथुरा: धार्मिक नगरी वृंदावन में चार विदेशी नागरिकों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव (Corona Positive) आने से जिले में हड़कंप मच गया है. नए वैरिएंट की दहशत के बीच स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है. स्वास्थ्य विभाग द्वारा जहां चारों कोरोना पॉजिटिव विदेशियों को होम आइसोलेट कर दिया गया है वहीं इनके संपर्क में आए लोगों की सैंपलिंग की जा रही है.

इस्कॉन मंदिर के पास सैंपलिंग
सीएचसी प्रभारी डॉक्टर स्वाति जाड़िया के नेतृत्व में टीम द्वारा इस्कॉन मंदिर के आस-पास विदेशियों के ठहरने वाले स्थानों पर लोगों की सैंपलिंग कराई गई. इसके साथ ही सीएमओ के निर्देश पर मंदिरों में आने-जाने वाले लोगों और स्कूल कॉलेजों में छात्र-छात्राओं, स्टाफ और हेल्थ वर्कर्स में सिम्पटम्स देखने पर सैंपलिंग कराने की तैयारी शुरू कर दी है.

संपर्क में आए लोगों के नमूने लिए गए
कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमिक्रॉन को लेकर दुनियाभर में चिंताओं के बीच देश में विदेशी नागरिकों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद टेंशन और बढ़ गई है. जानकारी के मुताबिक मारिया देसम परादोस (47), डुमोलिन फ्रेडरिक आर्मंड (44) और उगने दौकाइट (30) पंद्रह दिन की यात्रा पर वृंदानवन आये थे और वापसी से पहले उन्होंने कोविड-19 जांच करवाई. इस जांच के बाद पता चला कि तीनों कोरोना संक्रमित हैं, इसके अलावा एक और शख्स को मिलाकर कुल 4 विदेशी संक्रमित पाए गए हैं. ये लोग किस देश के हैं, उसका तत्काल पता नहीं चल पाया है. इन लोगों के संपर्क में आये 44 लोगों के नमूने जांच के लिए लिये गये हैं.

बेंगलुरु संक्रमित के सैंपल ने बढ़ाई चिंता
दूसरी तरफ बीते दिनों बेंगलुरु में कोरोना संक्रेमित मिले विदेशियों के मामले में भी अपडेट आया है. कर्नाटक  स्वास्थ्य मंत्री डॉ के सुधाकर ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका से हाल में बेंगलुरु आए दो लोगों में से एक का सैंपल ‘डेल्टा वैरिएंट से अलग है.’ मंत्री ने कहा कि वह आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कह सकते क्योंकि वह अभी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अधिकारियों के संपर्क में हैं. सुधाकर ने कहा, ‘पिछले नौ महीनों से केवल डेल्टा वैरिएंट के मामले आए हैं, लेकिन आप कह रहे हैं कि सैंपल में से एक ओमिक्रॉन वैरिएंट का है. मैं इसके बारे में आधिकारिक तौर पर नहीं कह सकता. मैं आईसीएमआर और केंद्र सरकार के अधिकारियों के संपर्क में हूं.’