काबुल। अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई ने तालिबान पर निशाना साधकर कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से मान्यता प्राप्त करने से पहले उनकी सरकार को अपने देश में ही यानि राष्ट्रीय स्तर पर वैधता लेने की आवश्यकता है।करजई ने तालिबान को सलाह दी है, कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता हासिल करने के लिए उसे पहले देश के लोगों का प्यार जीतना होगा। उन्होंने कहा कि तालिबान को चुनावों के जरिये या लोया जिरगा आयोजित करके राष्ट्रीय वैधता हासिल करना चाहिए।
करजई ने कहा कि इस्लामी अमीरात के पास देश चलाने के लिए एक संविधान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि तालिबान को समझना चाहिए कि अंतरराष्ट्रीय मान्यता से पहले राष्ट्रीय वैधता महत्वपूर्ण हैं।इसके लिए काम करना चाहिए और अफगानिस्तान के संविधान को लागू करना चाहिए।करजई ने कहा कि पाकिस्तान को काबुल के आंतरिक मामलों में दखल नहीं देना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह अफगानिस्तान का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता है, जबकि पाक इन दिनों इस तरह से बोलता है जैसे कि वह हमारा प्रतिनिधित्व करता है।
अफगानिस्तान के पत्रकार संघ ने देश के मीडिया का समर्थन करने और मीडिया की आजादी के लिए खड़े होने वाले अंतरराष्ट्रीय संगठनों से कहा है कि यहां सरकारी विभागों में प्रवक्ताओं की नियुक्ति के बाद भी सूचनाओं की पहुंच में कमी है।