नई दिल्‍ली. कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बाद अब देश की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) तेजी से पटरी पर लौट रही है. केंद्र सरकार इसकी रफ्तार को बढ़ाने के लिए नई-नई योजनाएं शुरू कर रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 15 अगस्त 2021 को लाल किले की प्राचीर से गति शक्ति योजना का ऐलान किया था. अब 100 लाख करोड़ रुपये की यह योजना आज यानी 13 अक्‍टूबर 2021 को लॉन्च की जाएगी. इस योजना के जरिये देश में रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे. उम्मीद की जा रही है कि यह योजना देश के मास्टर प्लान और इंफ्रास्ट्रक्चर की नींव रखने में बड़ी भूमिका निभाएगा.

16 विभागों को योजना में किया जाएगा शामिल
प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के जरिये स्‍थानीय निर्माताओं को विश्वस्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाया जा सकेगा. इससे उद्योगों का विकास होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को योजना की घोषणा करते हुए कहा था कि इस योजना में रेलवे, सड़क व राजमार्ग, पेट्रोलियम और गैस, बिजली, दूरसंचार, नौवहन, विमानन व औद्योगिक पार्क बनाने वाले विभागों समेत केंद्र सरकार के 16 विभागों को शामिल किया जाएगा. केंद्र के सभी 16 विभागों के उच्च अधिकारियों का नेटवर्क प्लानिंग ग्रुप गठित किया जाएगा.

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना की विशेषताएं
– 75वें स्वतंत्र दिवस पर पीएम मोदी द्वारा प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का ऐलान किया गया.
– गति शक्ति योजना का कुल बजट 100 लाख करोड़ निर्धारित किया गया है.
– पीएम गति शक्ति योजना के माध्यम से युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे.
– यह योजना इंफ्रास्ट्रक्चर का चहुमुखी विकास सुनिश्चित करेगी.
– लोकल निर्माता को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाया जाएगा.
– योजना के तहत नए इकोनॉमिक जोन भी विकसित किए जाएंगे.
– आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण में हॉलिस्टिक अप्रोच अपनाई जाएगी.
– एक हॉलिस्टिक इंफ्रास्ट्रक्चर की नींव इस योजना के माध्यम से रखी जाएगी.