• पूर्व स्पीकर अध्यक्ष एनपी प्रजापति का नाम हटाकर विवेक तन्खा का नाम जोड़ा
  • तन्खा ने कहा- मेरा नाम हटा दें तो कोई आपत्ति नहीं

भोपाल । मध्य प्रदेश में खंडवा लोकसभा और तीन विधानसभा सीटों पर हो रहे चुनाव के लिए कांग्रेस ने स्टार प्रचारकों की सूची बीजेपी से पहले जारी कर दी थी, लेकिन 24 घंटे में ही इसमें बदलाव कर दिया है। इस सूची से पूर्व विधानसभा अध्यक्ष (स्पीकर) एनपी प्रजापति की जगह राज्य सभा सांसद विवेक तन्खा को शामिल किया गया है।
इस पर बीजेपी ने तंज कसते हुए आरोप लगाया कि कांग्रेस दलित विरोधी है। बीजेपी के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने सोशल मीडिया पर लिखा- कांग्रेस की अदालत में दलित नेता धनाढ्य वकील से केस हारा। दलितों का ऐसे सम्मान करती है कांग्रेस। एनपी प्रजापति कोई मामूली आदमी नहीं, विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष हैं। कांग्रेस के इस अंदरूनी मामले में बीजेपी की एंट्री होने के बाद विवेक तन्खा ने सोशल मीडिया पर सफाई दी। उन्होंने लिखा- स्टार प्रचारक की सूची इलेक्शन कानून की व्यवस्था है। मुझे पता होता कि प्रजापति जी के नाम की जगह मेरा नाम शामिल किया जा रहा है तो मैं पूरे विनम्रतापूर्वक मना कर देता। आज भी कर दें तो मुझे आपत्ति नहीं। प्रचार हम सब करेंगे।


नाराज चल रहे थे प्रजापति
विधानसभा की लोकलेखा समिति में मार्च 2021 को कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक ब्रजेन्द्र सिंह राठौर को लोक लेखा समीति का अध्यक्ष व एनपी प्रजापति को सदस्य बनाया गया था। लेकिन अध्यक्ष नहीं बनाए जाने से नाराज प्रजापति ने समिति के सदस्य पद से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि ब्रजेंद्र सिंह राठौर के निधन के बाद से अध्यक्ष का पद खाली है।