श्रीनगर: जम्मू कश्मीर में आतंक फैलाने की पाकिस्तानी साजिश पर बड़ा खुलासा हुआ है. कश्मीर के उरी में पाकिस्तान के खिलाफ आतंक का जिंदा सबूत मिला है. सुरक्षाबलों ने घुसपैठ की कोशिश करने वाले एक पाकिस्तानी आतंकी को धर दबोचा है. एनकाउंटर के दौरान एक आतंकी मारा भी गया है. मारे गए आतंकी के पास से सुरक्षाबलों को पाकिस्तान की करेंसी मिली है. एक आतंकी जो फरार हुआ है वो पाक खुफिया विभाग ISI का एजेंट बताया जा रहा है. इस पूरे ऑपरेशन को लेकर सेना आज दोपहर एक बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ज्यादा जानकारी देगी


आज जो कामयाबी सुरक्षाबलों को मिली है वो इसलिए भी खास है क्योंकि आज ही के दिन पांच साल पहले सेना ने पाकिस्तान के आतंक के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की थी. सुरक्षाबलों को 18 सितंबर को उरी में 5-6 आतंकियों के घुसपैठ की जानकारी मिली थी. इसी के बाद से कई दिनों तक उरी में तलाशी अभियान चलाया गया. 23 सितंबर को उरी के हथलंगा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई. 23 सितंबर को हुई इस मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए थे. 


मुठभेड़ के बाद भी सुरक्षाबलों ने उरी में ऑपरेशन जारी रखा, सोमवार को भी मुटभेड़ के दौरान कल एक आतंकी ढेर हुआ था जबति एक पाकिस्तानी पकड़ा गया था. इस ऑपरेशन के दौरान सेना के चार जवान भी घायल हुए हैं. जानकारी के मुताबिक आतंकियों ने घुसपैठ के लिए माछिल, टिटवाल सेक्टर का इस्तेमाल किया. इसके लिए पाकिस्तान फौज से इन आतंकियों को मदद मिली. पाकिस्तान की तरफ इन दोनों सेक्टर में सीजफायर उल्लंघन किया गया. पाकिस्तान की तरफ से भारतीय पोस्ट पर फायरिंग की गयी थी. 


अफगानिस्तान में सत्ता परिवर्तन का साइड इफेक्ट ये हुआ है कि पाकिस्तान सीजफायर के समझौते के बावजूद फिर से आतंकियों की घुसपैठ करवाने में जुट गया. अखनूर में बीएसएफ ने हथियार और ड्रग्स तस्करी के रैकेट का खुलासा किया है. बीएसएफ ने एक बैग बरामद किया है जिसमें चार पिस्टल, आठ मैगजीन, एक किलो ड्रग्स और पौने तीन लाख के जाली नोट बरामद किए हैं.