15 अगस्त को अफगानिस्तान पर पूरी तरह कब्जा करने के तीन हफ्ते बाद तालिबान ने अपनी सरकार का ऐलान कर दिया है। मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद को मंत्रि परिषद का प्रमुख यानी नई सरकार का मुखिया बनाया गया है। तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने इसकी जानकारी दी।

तालिबान ने बताया है कि अभी एक केयरटेकर कैबिनेट सरकार की जिम्मेदारी संभालेगी। तालिबान ने बिना किसी समारोह के सरकार की घोषणा की है, समारोह बुधवार को हो सकता है। तालिबान की अंतरिम सरकार की लिस्ट इस तरह है..

प्रधानमंत्री - मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद

डिप्टी PM 1 - मुल्ला बरादर

डिप्टी PM 2 - अब्दुल सलाम हनाफी

गृह मंत्री - सिराजुद्दीन हक्कानी

रक्षा मंत्री - मोहम्मद याकूब मुजाहिद

वित्त मंत्री - मुल्ला हिदायतुल्ला बदरी

विदेश मंत्री - मौलवी आमिर खान मुतक्की

शिक्षा मंत्री - शेख मौलवी नूरुल्ला मुनीर

शरणार्थी मामलों के मंत्री - खलीलउर्रहमान हक्कनी

उप विदेश मंत्री - शेर मोहम्मद स्टेनेकजई (इन्होंने ही पिछले दिनों दोहा में भारत के राजदूत दीपक मित्तल से मुलाकात की थी)

संस्कृति मंत्रालय के डिप्टी मिनिस्टर - जबीउल्लाह मुजाहिद

रक्षा मंत्रालय में चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ - कारी फसीहउद्दीन (ताजिक मूल के तालिबान कमांडर, इनके नेतृत्व में ही तालिबान ने पंजशीर की लड़ाई लड़ी और जीती)

सेना प्रमुख - मुल्ला फजल अखुंद

डिप्टी चीफ ऑफ इंटेलिजेंस - मुल्ला ताज मीर जवाद

नेशनल डायरेक्टोरेट ऑफ सिक्यूरिटी (NDS) प्रमुख - मुल्ला अब्दुल हक वासिक

तुर्की ने कहा- मान्यता देने में जल्दबाजी न करें

अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनने से ठीक पहले तुर्की के विदेश मंत्री यूसुफ एरिम ने अहम बयान दिया है। यूसुफ ने कहा- हमारी दुनिया को यही सलाह है कि वो तालिबान की सरकार को मान्यता देने में किसी तरह की जल्दबाजी न करें।

पाकिस्तान विरोधी रैली पर फायरिंग

इधर, काबुल में पाकिस्तान विरोधी रैली पर तालिबान ने फायरिंग कर दी। इससे मची भगदड़ में कई महिलाओं के घायल होने की खबर है। वहीं इस प्रदर्शन को कवर रहे TOLO न्यूज के कैमरामैन वाहिद अहमदी को तालिबान ने गिरफ्तार कर लिया। बता दें पंजशीर की जंग में पाकिस्तान के दखल से अफगानिस्तान के लोगों में गुस्सा है और वे लगातार दूसरे दिन पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शनों में काबुल के लोग गो-बैक पाकिस्तान और आजादी-आजादी के नारे लगा रहे हैं। ऐसा ही एक प्रदर्शन काबुल स्थित पाकिस्तानी दूतावास के बाहर चल रहा था, जिसमें ज्यादातर महिलाएं शामिल थीं। यहां लोगों को तितर-बितर करने के लिए तालिबान ने हवाई फायरिंग कर दी।

काबुल में बीती रात भी महिलाओं ने पाकिस्तान के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। इसे तालिबान के जुल्मों और पाकिस्तान की घुसपैठ के खिलाफ प्रदर्शन बताया जा रहा है। वैसे तो अफगानिस्तान के अलग-अलग शहरों में महिलाएं पिछले कई दिनों से अपने अधिकारों के लिए प्रदर्शन कर रही हैं, लेकिन काबुल में पहली बार रात में प्रदर्शन हुए हैं।

बता दें तालिबान ने पंजशीर की जंग जीतकर पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा होने का दावा किया है। बताया जा रहा है कि तालिबान ने पाकिस्तान की मदद से ये लड़ाई जीती है। रेजिस्टेंस फोर्स की अगुवाई कर रहे अहमद मसूद ने भी कहा है कि पाकिस्तान वायुसेना लगातार हमले कर रही है, ताकि तालिबान आगे बढ़ सके। अब हमारी असली लड़ाई पाकिस्तान से है, क्योंकि पाक सेना और ISI तालिबानियों का जंग में नेतृत्व कर रही है।

वैलिड वीजा और पासपोर्ट जरूरी

तालिबान ने अफगान नागरिकों को जबरन रोके जाने की खबरों का खंडन किया है। आतंकी संगठन ने कहा है कि जिन अफगान नागरिकों के पास वैलिड वीजा और पासपोर्ट्स हैं, उन्हें इवैक्यूएशन फ्लाइट्स में बोर्ड करने से नहीं रोका जाएगा। तालिबान का यह बयान खासतौर पर मजार-ए-शरीफ शहर से आ रही रिपोर्ट्स के संदर्भ में है। इनमें कहा गया था कि अफगान नागरिकों को देश से बाहर जाने से रोका जा रहा है।

मजार-ए-शरीफ इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर मौजूद तालिबान कमांडर हाफिज मंसूर ने कहा- चार फ्लाइट्स यहां से जाने वाली थीं। इनमें से एक फ्लाइट में हमने कुछ लोगों को नहीं बैठने दिया। इन लोगों के पास वैलिड वीजा और पासपोर्ट नहीं थे।


पंजशीर में पाकिस्तान के दखल की जांच कर रहा ईरान

ईरान ने पंजशीर में तालिबानी हमले की निंदा की है। साथ ही कहा है कि तालिबान के हमलों में पाकिस्तान की भूमिका की जांच कर रहा है। ईरान के विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि अफगानिस्तान की समस्या का समाधान अफगानिस्तान के अंदर ही बातचीत से होना चाहिए। साथ ही चेतावनी दी है कि अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक सभी सीमाओं का पालन किया जाना चाहिए।

तालिबान ने अहमद मसूद के मीडिया कवरेज पर रोक लगाई

तालिबान ने रेजिस्टेंस फोर्स के नेता अहमद मसूद के मीडिया कवरेज पर रोक लगा दी है। तालिबान ने मीडिया को यह फरमान अहमद मसूद के उस वीडियो मैसेज के बाद सुनाया है, जिसमें मसूद ने पंजशीर के साथ ही पूरे अफगानिस्तान में तालिबान के खिलाफ जंग छेड़ने की अपील की है।

बता दें मसूद ने सोमवार को मीडिया को भेजे गए एक ऑडियो मैसेज में अफगानी लोगों से कहा, 'आप देश के अंदर हों या बाहर, मैं आप लोगों से अफगानिस्तान की गरिमा, स्वतंत्रता और समृद्धि के लिए राष्ट्रीय विद्रोह शुरू करने का आह्वान करता हूं।'

पंजशीर में तालिबानी ठिकानों पर हमले की खबर

तालिबान भले ही पंजशीर को जीतने का दावा कर रहा हो, लेकिन वहां जंग जारी रहने की खबरें हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पंजशीर में कुछ सैन्य विमानों ने तालिबानी ठिकानों पर हमला किया है। यह साफ नहीं हो पाया है कि ये विमान किस देश के हैं। इससे पहले सोमवार को तालिबान ने कहा था कि उसने पंजशीर भी जीत लिया है और अब पूरा अफगानिस्तान उसके कब्जे में हैं। दूसरी तरफ रेजिस्टेंस फोर्स ने भी हार नहीं मानी है।


नॉर्दर्न अलायंस के चीफ मसूद के काजिकिस्तान भागने की खबर

पंजशीर में तालिबान के खिलाफ विद्रोह का नेतृत्व करने वाले नॉर्दर्न अलायंस के चीफ अहमद मसूद के काजिकिस्तान भागने की खबरें हैं। तालिबान समर्थकों के हवाले से कुछ मीडिया रिपोर्ट में इस बात का दावा किया है। इधर, पंजशीर समर्थकों ने मसूद के घाटी में ही होने की बात कही है। उनका दावा है कि मसूद आखिरी दम तक पंजशीर में ही रहेंगे। वे दुश्मनों को पीठ दिखाने वालों में से नहीं हैं।

तालिबान ने कहा- लोगों को अफगानिस्तान छोड़ने से रोकेगा नहीं

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन के मुताबिक तालिबान ने भरोसा दिया है कि वह लोगों को अफगानिस्तान छोड़ने से रोकेगा नहीं। बता दें उत्तरी अफगानिस्तान के एयरपोर्ट से अमेरिकियों समेत सैंकड़ों दूसरे लोगों को उड़ान भरने से रोके जाने की खबरों के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को दबाव झेलना पड़ रहा था। इस बीच ब्लिंकेन का बयान काफी मायने रखता है। बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान के मजार-ए-शरीफ में 600 से 1300 अमेरिकी एयरपोर्ट पर फंसे हुए हैं।

अफगानियों से भारत छोड़ने को नहीं कहा जाएगा

भारत में रह रहे अफगानियों के मामले में फॉरनर्स रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिस (FRRO) के अधिकार गृह मंत्रालय ने अपने हाथ में ले लिए हैं। यानी FRRO गृह मंत्रालय की इजाजत के बिना किसी अफगानी को भारत छोड़ने का आदेश नहीं दे सकेगा। अगर किसी अफगानी का वीजा एक्सपायर हो गया हो या वह जरूरी दस्तावेज नहीं दे पा रहा हो तो FRRO उसके मामले को गृह मंत्रालय को ट्रांसफर करेगा और मंत्रालय ही ऐसे मामलों में आखिरी फैसला लेगा।

रूस ने कहा- अफगानिस्तान की जमीन से रूस और भारत में आतंकवाद फैलने का खतरा

भारत में रूस के राजदूत निकोलाय कुदाशेव ने कहा है कि अफगानिस्तान को लेकर भारत और रूस की एक जैसी चिंताएं हैं और दोनों देश लगातार संपर्क में हैं। रूस के इलाकों और कश्मीर में अफगानिस्तान की जमीन से आतंकवाद फैलाए जाने का खतरा है। साथ ही कहा कि तालिबानी सरकार को मान्यता देने से पहले रूस उसकी गतिविधियों को देखेगा।

रूस चाहता है कि अफगानिस्तान में ऐसी सरकार बने जिसमें सभी का प्रतिनिधित्व हो और जो सुरक्षा और स्थिरता ला सके। रूस के राजदूत ने ये भी कहा कि अफगानी जमीन का इस्तेमाल दूसरे देशों के खिलाफ नहीं होना चाहिए।